home page

Weather Forecast: IMD ने इन राज्यों में भयंकर गर्मी के साथ बारिश का अलर्ट किया जारी, जाने मौसम विभाग की ताजा भविष्यवाणी

Weather Forecast: भारतीय मेट्रोलॉजिकल डिपार्टमेंट (IMD) ने हाल ही में एक महत्वपूर्ण चेतावनी जारी की है, जिसमें 4 अप्रैल तक पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़ सहित भारत के विभिन्न राज्यों में बारिश होने की भविष्यवाणी की गई है।
 | 
weather-update-imd-issued-alert-of-heatwave

Weather Forecast: भारतीय मेट्रोलॉजिकल डिपार्टमेंट (IMD) ने हाल ही में एक महत्वपूर्ण चेतावनी जारी की है, जिसमें 4 अप्रैल तक पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़ सहित भारत के विभिन्न राज्यों में बारिश होने की भविष्यवाणी की गई है। साथ ही कर्नाटक और महाराष्ट्र जैसे कई अन्य राज्यों में हीटवेव की संभावना जताई गई है। इस खबर का मतलब है कि आने वाले दिनों में देश के विभिन्न हिस्सों के लोग विभिन्न प्रकार के मौसमी परिवर्तनों का सामना करेंगे।

पहाड़ी इलाकों में मौसम की मार

आईएमडी ने आगाह किया है कि 31 मार्च को जम्मू, कश्मीर, लद्दाख, गिलगित, बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड में बारिश या बर्फबारी, तूफान, बिजली गिरने की संभावना है। 3-6 अप्रैल के दौरान इन्हीं क्षेत्रों में गरज के साथ बारिश या बर्फबारी और बिजली गिरने की उम्मीद है। इससे पहाड़ी इलाकों में रहने वाले लोगों के लिए कुछ चुनौतियाँ उत्पन्न हो सकती हैं।

मैदानी इलाकों में बारिश की संभावना

इसी बीच पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ में 3-5 अप्रैल के दौरान बारिश होने का अनुमान है। यह खबर किसानों और उन क्षेत्रों के निवासियों के लिए महत्वपूर्ण है, जो आने वाले दिनों में अपनी फसलों और दैनिक जीवन की योजना बना रहे हैं।

दिल्ली और उत्तर पूर्वी राज्यों में मौसम का हाल

दिल्ली में शनिवार को अधिकतम तापमान 35.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो मौसम के औसत से तीन डिग्री अधिक है। वहीं उत्तर पूर्वी राज्यों में भी 31 मार्च से 4 अप्रैल के बीच बारिश और तूफान की संभावना जताई गई है, जिसमें 31 मार्च और 1 अप्रैल को असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा में भारी बारिश की भविष्यवाणी की गई है।

सावधानी बरतने की जरूरत

इस पूर्वानुमान के साथ आईएमडी ने लोगों से अपील की है कि वे सतर्क रहें और मौसम संबंधी चेतावनियों का ध्यान रखें। खासकर उन क्षेत्रों में जहाँ बारिश, तूफान, और हीटवेव की संभावना है, वहाँ के निवासियों को अधिक सावधानी बरतने और संभावित खतरों से बचने की आवश्यकता है।