home page

IMD Weather Forecast: हरियाणा और पंजाब में अगले 48 घंटों में मौसम में होगा बड़ा बदलाव, आंधी बारिश के साथ ओलावृष्टि का अलर्ट हुआ जारी

IMD Weather Forecast: देशभर में मौसम की करवट (Weather Change) से जुड़ी ताजा खबरों में पंजाब (Punjab) और मध्य भारत (Central India) में आगामी दिनों में बारिश के संकेत मिल रहे हैं।
 | 
imd-weather-rainfall-imd-alert-jammu

IMD Weather Forecast: देशभर में मौसम की करवट (Weather Change) से जुड़ी ताजा खबरों में पंजाब (Punjab) और मध्य भारत (Central India) में आगामी दिनों में बारिश के संकेत मिल रहे हैं। भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने 26-27 फरवरी के दौरान इन क्षेत्रों में ओलावृष्टि (Hailstorm) और आंधी (Thunderstorm) के साथ बारिश होने की भविष्यवाणी की है। विशेष रूप से पंजाब के जालंधर, लुधियाना, पटियाला, मोगा जैसे जिलों में बारिश की संभावना जताई गई है।

तापमान में उतार-चढ़ाव

दिन के तापमान (Day Temperature) में बढ़ोतरी के साथ ठंड में कमी महसूस की गई है, जबकि रात के समय अभी भी ठंडक (Chill) बनी हुई है। इस बीच बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल, हिमाचल प्रदेश, और जम्मू-कश्मीर में भी बारिश की संभावना है, जिससे मौसम में एक नई ताजगी और नमी का अनुभव होगा।

चक्रवाती हवाओं का प्रभाव

मौसम पूर्वानुमान एजेंसी स्काईमेट (Skymet) के अनुसार राजस्थान के मध्य भागों में चक्रवाती हवाओं (Cyclonic Winds) का क्षेत्र बना हुआ है, जिसका प्रभाव आसपास के इलाकों पर भी पड़ रहा है। इससे मौसम में आगामी बदलाव की संभावनाएं और भी मजबूत होती जा रही हैं।

दिल्ली में मौसम की स्थिति

IMD ने दिल्ली (Delhi) में 26 फरवरी को रात के समय हल्की बारिश (Light Rain) होने की संभावना जताई है। 27 फरवरी से मौसम साफ (Clear Weather) होने लगेगा और 1 और 2 मार्च के बीच गरज-चमक के साथ बारिश की आशंका है। इस पूरे सप्ताह दिल्ली का न्यूनतम तापमान (Minimum Temperature) 9 से 13 डिग्री सेल्सियस के बीच रहने की उम्मीद है।

नागरिकों के लिए सलाह

मौसम विभाग की इस भविष्यवाणी के मद्देनजर नागरिकों को सुझाव दिया जाता है कि वे अपनी यात्राओं और दैनिक कार्यक्रमों की योजना बनाते समय मौसम की स्थिति (Weather Conditions) का ध्यान रखें। बारिश और ओलावृष्टि के दौरान सावधानी बरतने और आवश्यक सुरक्षा उपायों (Safety Measures) को अपनाने की जरूरत है। इस समय खेती और कृषि कार्यों में भी विशेष ध्यान देने की आवश्यकता होती है, ताकि फसलों को अनावश्यक नुकसान से बचाया जा सके।