Haryana Me Barish: हरियाणा के इस जिलें में भयंकर गर्मी ने तोड़ा 58 साल पुराना रिकॉर्ड, इस तारीख से प्रदेश के मौसम में होगा बदलाव

By Vikash Beniwal

Published on:

हरियाणा के नारनौल में गर्मी ने इस बार एक नई ऊँचाई को छू लिया है। 58 वर्षों के बाद इस क्षेत्र में अधिकतम तापमान 48.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है जो कि पूर्व के रिकॉर्ड्स को तोड़ दिया है। इस प्रकार की चरम स्थिति ने न केवल मौसम विज्ञानियों को चौकाया है बल्कि स्थानीय निवासियों को भी बेहद चिंतित कर दिया है।

विशेष अलर्ट

प्रदेश के 15 जिलों में रेड अलर्ट और 7 जिलों में ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। यह अलर्ट मुख्य रूप से अत्यधिक गर्मी के कारण उत्पन्न संभावित स्वास्थ्य जोखिमों के चलते जारी किया गया है। नागरिकों को सलाह दी गई है कि वे दोपहर के समय ज्यादा बाहर न निकलें और अपने आप को हाइड्रेट रखें।

नौतपा की भीषण गर्मी

नौतपा के दौरान, जो कि 25 मई से शुरू होता है, सूर्य देवता अपने सबसे प्रचंड रूप में होते हैं। इस अवधि में पड़ने वाली गर्मी का असर न केवल तापमान में देखा जा रहा है बल्कि सामाजिक और आर्थिक गतिविधियों पर भी पड़ रहा है। मौसम विज्ञानी डॉ. चंद्र मोहन के अनुसार, सिंध, बलूचिस्तान और थार मरुस्थल से आने वाली शुष्क गर्म हवाओं का प्रभाव इस गर्मी को और भी भयंकर बना रहा है।

पिछले कई सालों का टूटा रिकार्ड

महेंद्रगढ़ जिले में दर्ज किया गया यह तापमान पिछले कई दशकों में सबसे अधिक है। 31 मई से 3 जून के दौरान आने वाले मौसमी विक्षोभ की संभावना है जिससे मौसम में कुछ ठंडक आ सकती है लेकिन यह राहत थोड़े समय के लिए हो सकती है।

आगे का हाल

स्थानीय सरकार और स्वास्थ्य विभाग द्वारा लोगों को गर्मी से बचने के लिए विभिन्न उपायों की सलाह दी जा रही है। इसमें पानी पीने, छायादार स्थानों में रहने और भारी कामों से बचने की सिफारिश शामिल है। इसके अलावा, सरकार ने गर्मी से बचाव के लिए ठंडे पेय पदार्थों और छांव की व्यवस्था करने के लिए भी कदम उठाए हैं।

Vikash Beniwal

मेरा नाम विकास बैनीवाल है और मैं हरियाणा के सिरसा जिले का रहने वाला हूँ. मैं पिछले 4 सालों से डिजिटल मीडिया पर राइटर के तौर पर काम कर रहा हूं. मुझे लोकल खबरें और ट्रेंडिंग खबरों को लिखने का अच्छा अनुभव है. अपने अनुभव और ज्ञान के चलते मैं सभी बीट पर लेखन कार्य कर सकता हूँ.