home page

Delhi Weather Forecast: अगले 24 घंटों में दिल्ली के इन हिस्सों में हो सकती है अच्छी बरसात, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

Delhi Weather Forecast: दिल्ली का मौसम एक और पश्चिमी विक्षोभ से प्रभावित होगा। मौसम विभाग ने कहा कि अगले दो दिनों में हल्की बूंदाबांदी होगी।
 | 
 delhi Weather 2 february

Delhi Weather Forecast: दिल्ली का मौसम एक और पश्चिमी विक्षोभ से प्रभावित होगा। मौसम विभाग ने कहा कि अगले दो दिनों में हल्की बूंदाबांदी होगी।

हालाँकि, शुक्रवार को दिल्ली की मानक वेधशाला सफदरजंग में अधिकतम तापमान सामान्य से चार डिग्री नीचे दर्ज किया गया, क्युकी यहाँ पे सर्द हवाएं चलती रहीं। 

सुबह दिल्ली के ज्यादातर हिस्सों में घना कोहरा छाया रहा। सुबह के समय पालम मौसम केंद्र में दृश्यता शून्य हो गई। दिन चढ़ने के साथ ही आठ बजे के बाद दृश्यता में सुधार हुआ।

दिन में बारह बजे के बाद दिल्ली के अधिकांश क्षेत्रों में धूप निकल आई। जिसकी वजह से लोगो को थोड़ी राहत मिली । लेकिन सर्द हवाओं के चलते तापमान बहुत जल्दी नहीं बढ़ा।

दिल्ली की मानक वेधशाला सफदरजंग में दिन का अधिकतम 18.5 डिग्री सेल्सियस था। जो औसत से चार डिग्री कम है। न्यूनतम तापमान तापमान 07 डिग्री सेल्सियस है, जो सामान्य से एक डिग्री कम है।

यहां 100 से 74 प्रतिशत आर्द्रता का स्तर रहा । राजधानी का पालम और जफरपुर क्षेत्र सबसे ठंडा था। पालम में अधिकतम तापमान 16.1 डिग्री सेल्सियस था, जबकि जफरपुर में तापमान 16.2 डिग्री सेल्सियस था। 

दिल्ली के मौसम पर भी अगले दो दिनों में एक और पश्चिमी विक्षोभ का प्रभाव पड़ेगा। शनिवार की शाम या रात को हल्की बारिश होने का अनुमान है। रविवार को तेज हवा और हल्की बारिश की संभावना है।

इस दौरान हवा की गति 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे रहने का अनुमान है।  जिसकी वजह से तापमान भी गिरेगा। रविवार को अधिकतम तापमान 18 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस रहने का अनुमान है। 

कोहरे के चलते 180 से अधिक विमान सेवाओं पर असर

शुक्रवार को कोहरे के चलते विमान सेवाओं पर भी बुरा असर पड़ा। जानकारी के अनुसार, दिल्ली हवाई अड्डे पर 180 से अधिक विमान सेवाओं का आवागमन प्रभावित हुआ है। इस बार की सर्दियों में पहले से अधिक घना कोहरा देखने को मिल रहा हैं।

जिसकी वजह से  विमान और रेल यातायात भी प्रभावित हो रहे हैं। शुक्रवार को भी, दिल्ली हवाई अड्डे से 180 से अधिक विमान या तो अपने निर्धारित समय पर उड़ान नहीं भर पाए या उन्हें उतरने में देरी हुई।

साथ ही, रेलवे स्टेशन पर 80  से अधिक रेलगाड़ियां अपने समय से देरी से पहुंची हैं। वहीं, लगभग दो दर्जन रेलगाड़ियां अपने समय से विलंब से रवाना हुई हैं।