UP Monsoon Update: यूपी के इन शहरों में अगले 24 घंटो में भारी बारिश का अलर्ट जारी, यूपी प्रदेश के नजदीक पहुंचा मॉनसून

By Ajay Kumar

Published on:

उत्तर प्रदेश में मानसून पूर्व की बरसात ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है और अब ‘मानसून एक्सप्रेस’ मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के कई भागों को सराबोर करते हुए उत्तर प्रदेश की दक्षिणी सीमा तक पहुँच गई है। मौसम विभाग के अनुसार अगले 48 घंटे में मानसून के प्रदेश में प्रवेश करने की पूरी संभावना है। मौसम वैज्ञानिक अतुल कुमार सिंह के मुताबिक मानसून के आगे बढ़ने के लिए सभी जरूरी परिस्थितियाँ अनुकूल हैं जिससे पूर्वी और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में अगले कुछ दिनों में भारी बरसात होने की उम्मीद है।

हाल की बरसात से जलभराव

पिछले रविवार को प्रदेश के 12 से अधिक शहरों में बरसात देखने को मिली है। इन शहरों में आगरा, अलीगढ़, बहराइच, बरेली, फुरसतगंज, गोरखपुर, हमीरपुर, झांसी, कानपुर, मेरठ, प्रयागराज, वाराणसी शामिल हैं। इस बरसात ने न केवल गर्मी से राहत प्रदान की है बल्कि यह भी दिखाता है कि मानसून अपनी पूरी तैयारी के साथ नजदीक पहुंच चुका है।

तापमान में स्थिरता बनी हुई है

प्रदेश भर में तापमान में कोई खास बढ़ोतरी नहीं देखी गई है। अधिकतम तापमान 36 से 41.3 डिग्री सेल्सियस के बीच रहा है। इससे यह स्पष्ट होता है कि मानसून पूर्व की बरसात ने गर्मी के प्रकोप को कुछ हद तक नियंत्रित किया है।

आने वाले दिनों में भारी बरसात की संभावना

अगले कुछ दिनों में आजमगढ़, मऊ, बलिया, देवरिया, गोरखपुर, और अन्य कई इलाकों में भारी बरसात की संभावना है। यह बरसात किसानों के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण होगी क्योंकि यह खरीफ की फसलों की बुवाई के लिए अनुकूल समय प्रदान करेगी।

मेघ गर्जन और वज्रपात की संभावना

मौसम विभाग ने कई जिलों में मेघ गर्जन और वज्रपात के साथ तेज झोंकेदार हवाओं की चेतावनी जारी की है। यह चेतावनी बांदा, चित्रकूट, कौशांबी, प्रयागराज, फतेहपुर, प्रतापगढ़, सोनभद्र और अन्य कई जिलों के लिए है। निवासियों को सलाह दी जा रही है कि वे अत्यधिक सावधानी बरतें और बारिश के दौरान सुरक्षित स्थानों पर रहें।

प्री-मानसूनी बरसात का आंकलन

जून माह की शुरुआत से लेकर अब तक प्री-मानसूनी बरसात का प्रदर्शन कमजोर रहा है जिससे मानसूनी बरसात पर और अधिक निर्भरता बढ़ गई है। मौसम विभाग ने लखनऊ में 7.8 मिमी बरसात दर्ज की है जो कि सामान्य से 81% कम है। यह आंकड़ा मानसून की आवश्यकता और महत्व को बढ़ाता है।