home page

इस जनजाति की औरतें पूरी जिंदगी में केवल एकबार ही करती है स्नान, खुद को साफ रखने के लिए करती है ये अजीबोगरीब काम

दुनिया के हर कोने में नहाने की प्रक्रिया और इसके चलन में भारी विविधता (Diversity) देखने को मिलती है। कुछ स्थानों पर सुबह नहाना (Morning Bath) पसंद किया जाता है
 | 
himba-tribe-do-not-bath-their-whole-life-how-do-they-keep-their-body

दुनिया के हर कोने में नहाने की प्रक्रिया और इसके चलन में भारी विविधता (Diversity) देखने को मिलती है। कुछ स्थानों पर सुबह नहाना (Morning Bath) पसंद किया जाता है, जबकि कुछ में शाम को नहाने की परंपरा (Evening Bath Tradition) होती है। विविधता सिर्फ समय तक सीमित नहीं है; कुछ लोग गर्म पानी (Hot Water) से नहाते हैं, तो कुछ ठंडे पानी (Cold Water) का उपयोग करते हैं और कुछ असाधारण रूप से बर्फ (Ice Bath) से भी नहा लेते हैं।

एक अनोखी जनजाति जो नहीं नहाती

अफ्रीका के नामीबिया में रहने वाली हिंबा जनजाति (Himba Tribe) एक ऐसी जनजाति है, जहां नहाने पर पूर्ण प्रतिबंध (Complete Ban on Bathing) है। इस जनजाति के लोग अपने जीवन में कभी नहीं नहाते, सिवाय उनकी शादी के दिन के। यह सुनने में भले ही अजीब लगे लेकिन यह उनकी प्राचीन परंपराओं (Ancient Traditions) का एक हिस्सा है।

स्वच्छता का अनूठा तरीका

हिंबा जनजाति के लोग खुद को साफ सुथरा रखने के लिए एक खास प्रक्रिया का पालन करते हैं, जिसे धुएं का स्नान (Smoke Bath) कहा जाता है। इस प्रक्रिया में, वे जड़ी-बूटियों (Herbs) को जलाकर उसके धुएं से खुद को साफ करते हैं। इस अनूठी विधि से न केवल उनका शरीर साफ रहता है, बल्कि रोगाणुओं और कीटाणुओं (Germs and Bacteria) से भी मुक्ति मिलती है।

परंपरा और प्रकृति का संगम

हिंबा जनजाति की महिलाएं अपने त्वचा की देखभाल के लिए एक खास लोशन (Special Lotion) का इस्तेमाल करती हैं, जो जानवरों की चर्बी और हेमाटाइट (Hematite) खनिज से बनता है। यह लोशन न केवल उन्हें धूप से सुरक्षित रखता है, बल्कि उनकी त्वचा को एक खास लाल रंग (Red Color) भी प्रदान करता है।

जीवन के हर पहलू में परंपरा

हिंबा जनजाति की संस्कृति (Culture) में बच्चे के जन्म से लेकर मृत्यु तक हर एक पहलू में परंपरा का विशेष महत्व है। उनके यहाँ बच्चे का जन्म उसके दुनिया में आने से पहले ही मनाया जाता है, जब माँ उसके बारे में सोचना शुरू करती है। इस तरह की अनूठी परंपराएँ (Unique Traditions) हमें यह सिखाती हैं कि प्रकृति और संस्कृति का संगम कितना महत्वपूर्ण है।