home page

Wine Beer: इस तरीके से शराब पीने से नही होता ज्यादा नशा, 99 प्रतिशत लोगों को नही होती सही जानकारी

शराब का सेवन आज के समय में कई लोगों की जीवनशैली का अभिन्न अंग बन चुका है। चाहे वह शादी हो, पार्टी, डिनर या नाइट आउट, हर अवसर पर शराब का सेवन तेजी से बढ़ रहा है।
 | 
whiskey-99-percent-of-people

शराब का सेवन आज के समय में कई लोगों की जीवनशैली का अभिन्न अंग बन चुका है। चाहे वह शादी हो, पार्टी, डिनर या नाइट आउट, हर अवसर पर शराब का सेवन तेजी से बढ़ रहा है। लेकिन यह भी सच है कि शराब का अधिक सेवन सेहत के लिए हानिकारक है। इस आर्टिकल में हम विस्तार से जानेंगे कि कैसे शराब के सेवन से होने वाले नुकसान को कम किया जा सकता है।

दिल और दिमाग पर असर

शराब का पहला घूंट जब हम पीते हैं तो यह सबसे पहले पेट तक पहुंचता है। यदि हमने शराब पीने से पहले कुछ खाया हो, तो पेट उस भोजन को पचाने में व्यस्त होता है, जिससे शराब धीरे-धीरे अवशोषित होती है। इस प्रक्रिया में शराब का असर धीमा पड़ता है।

खाली और भरे पेट पर शराब के असर की समझ

खाली पेट शराब पीने पर यह तेजी से छोटी आंत तक पहुंचती है और जल्दी खून में मिल जाती है, जिससे नशा तेजी से होता है। दूसरी ओर भोजन करने के बाद शराब पीने से इसका असर धीमा होता है क्योंकि भोजन अल्कोहल के अवशोषण को धीमा कर देता है।

शराब और भोजन में संतुलन

शराब के सेवन में संतुलन बहुत महत्वपूर्ण है। सही मात्रा में भोजन और शराब का सेवन करने से शराब का प्रभाव कम हो सकता है और नशा धीरे-धीरे होता है। स्वास्थ्य विशेषज्ञ सलाह देते हैं कि शराब पीने से पहले हल्का भोजन करें, जिससे हैंगओवर से बचा जा सकता है।

महिला और पुरुषों के लिए शराब पीने की लिमिट

अलग-अलग स्टडीज के अनुसार पुरुषों के लिए दो ड्रिंक्स और महिलाओं के लिए एक ड्रिंक की लिमिट तय की गई है। यह लिमिट शराब के सेवन को सुरक्षित बनाती है और स्वास्थ्य पर होने वाले नुकसान को कम करती है।

शराब पीने से फायदा

शराब पीने से सेहत को होने वाले फायदे पर बहस जारी है। कुछ स्टडीज के अनुसार थोड़ी मात्रा में शराब पीने से फायदे हो सकते हैं, लेकिन इसे लेकर सावधानी बरतनी चाहिए।

हैवी ड्रिंकर्स की पहचान और नुकसान

अधिक मात्रा में शराब पीने वाले व्यक्तियों को हैवी ड्रिंकर्स कहा जाता है। इससे विभिन्न प्रकार के कैंसर, हाई ब्लड प्रेशर और सिरोसिस जैसी घातक बीमारियों का खतरा बढ़ता है।