home page

फ्लाइट में उड़ते और जमीन पर उतरते वक्त लाइट क्यों की जाती है बंद, जाने इसके पीछे की असली वजह

आज हवाई जहाज से सफर करना बहुत आसान हो गया है। लोग कम समय में एक स्थान से दूसरे स्थान आसानी से पहुंच जाते हैं
 | 
flying in flight

आज हवाई जहाज से सफर करना बहुत आसान हो गया है। लोग कम समय में एक स्थान से दूसरे स्थान आसानी से पहुंच जाते हैं। यही कारण है कि आज हवाई जहाज यात्रा के लिए सबसे अच्छा विकल्प माना जाता है।

लेकिन हवाई जहाज से सफर करने वाले लोगों को भी कुछ ख़ास बातों के बारे में पता नहीं होता, जैसे कि प्लेन उड़ते और लैंड होते समय लाइट क्यों बंद कर दी जाती है, इसके बारे में शायद आपको भी पता नहीं होगा। यदि आप अभी भी इस बारे में नहीं जानते है तो आज हम आपको इसके पीछे का राज़ बताएँगे।

क्या कारण है?

अगर आपने भी इस बात पे ध्यान दिया होगा, तो आज आपको इसके पीछे की ख़ास वजह के बारे में हम बताएँगे। दरअसल, इसकी वजह है की एयरलाइंस का ध्यान रखती है कि अगर लैंडिंग और उड़ते समय कोई हादसा होता है तो प्लेन की लाइट को तुरंत बंद कर दिया जाए। वहीं अंधेरे में हमारी आँखों को एडजेस्ट होने 10 से 30 मिनट तक का समय लगता हैं। फ्लाइट की लाइट को डीम किया जाता है ताकि हादसे के समय कोई भी पैसेंजर पैनिक ना हो।

ये भी है कारण

इसके अलावा, एक अतिरिक्त कारण भी बताया गया है। बताया गया है कि लैंडिंग और टेकऑफ के समय प्लेन की लाइट इसलिए बंद कर दी जाती है। ताकि यात्रियों को एमरजेंसी लाइट्स देखने में आसानी हो सके।