home page

ऊंची इमारतों के ऊपर क्यों लगती होती है रेड कलर की लाइटें, अगर नही लगवाए तो क्या होगा

शहर की ऊंची इमारतों के शिखर पर चमकती लाल रोशनी (Red Lights) का नजारा अक्सर हमें रात के समय दिखाई देता है।
 | 
ऊंची इमारतों के ऊपर क्यों लगती होती है रेड कलर की लाइटें

शहर की ऊंची इमारतों के शिखर पर चमकती लाल रोशनी (Red Lights) का नजारा अक्सर हमें रात के समय दिखाई देता है। यह नजारा न सिर्फ मनमोहक होता है बल्कि इसके पीछे एक बहुत ही महत्वपूर्ण कारण छिपा होता है। आइए जानते हैं कि ये लाल बत्तियां (Red Lights) क्यों और कैसे शहर की इमारतों की छतों पर अपनी जगह बनाती हैं।

एविएशन सेफ्टी है मुख्य प्राथमिकता

इन लाल बत्तियों का मुख्य उद्देश्य विमानन सुरक्षा (Aviation Safety) सुनिश्चित करना है। ये बत्तियां एविएशन बाधा लाइट (Aviation Obstacle Light) या विमान चेतावनी लाइट (Aircraft Warning Light) के रूप में जानी जाती हैं। विमान जब नोर्मल ऊंचाई पर उड़ान भरते हैं तो ये ऊंची इमारतें, कम्यूनिकेशन टावर (Communication Towers) और पवन टरबाइन (Wind Turbines) उनके लिए खतरा बन सकती हैं। खासतौर पर खराब मौसम (Bad Weather) की स्थिति में जब विसिबिलिटी कम होती है, तब ये लाइट्स पायलटों को साफ चेतावनी प्रदान करती हैं।

नियमों और गाइडलाइंस का पालन

दुनिया भर के कई देशों में इस तरह की ऊंची इमारतों पर एविएशन बाधा लाइटों को लगाने के लिए सख्त नियम (Strict Regulations) और गाइडलाइंस (Guidelines) हैं। इन नियमों का मुख्य उद्देश्य हवाई यातायात (Air Traffic) की सुरक्षा को सुनिश्चित करना है। इन नियमों का पालन न करने पर भवन मालिकों और ऑपरेटरों को जुर्माने (Fines) और कानूनी परिणाम (Legal Consequences) का सामना करना पड़ सकता है।

विमानों के लिए मार्गदर्शक

ये लाल बत्तियां न सिर्फ सुरक्षा का काम करती हैं बल्कि विमानों के लिए नेविगेशनल सहायता (Navigational Aid) के रूप में भी सेवा प्रदान करती हैं। ये लाइट्स पायलटों को उनके स्थान और दिशा की सही पहचान में मदद करती हैं, जिससे वे अपनी उड़ान की ऊंचाई और दिशा को उचित रूप से कंट्रोल कर सकें।