home page

किस कारण पायलट और को पायलट को दिया जाता है अलग-अलग खाना, आखिर क्यों एयरलाइन कंपनियां करती है भेदभाव

फ्लाइट पर चलते समय हमारी एकमात्र इच्छा होती है कि हमारी यात्रा सफल हो। और हम सुरक्षित रूप से अपनी मंजिल तक पहुँचें
 | 
पायलट

फ्लाइट पर चलते समय हमारी एकमात्र इच्छा होती है कि हमारी यात्रा सफल हो। और हम सुरक्षित रूप से अपनी मंजिल तक पहुँचें। वैसे, आपकी सुरक्षित उड़ान काफी हद तक पायलट और सह-पायलट की क्षमता पर निर्भर करती है। मानी हुई बात है कि उड़ना सीखने के लिए बहुत कठिन प्रशिक्षण आवश्यक है। पायलट बनने के लिए भावनात्मक रूप से फिट रहना भी महत्वपूर्ण है।

पायलटों को आपातकालीन परिस्थितियों में बिना सोचे-समझे निर्णय लेना पड़ सकता है। यही नहीं, पायलटों को कभी-कभी अपनी जान जोखिम में डालने के लिए भी तैयार रहना पड़ता है। कुल मिलाकर, पायलट की नौकरी में कई तरह की चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। मगर क्या आप जानते हैं कि पायलट और को पायलट एक साथ भोजन नहीं कर सकते हैं? यदि ऐसा हो रहा है, तो यह चिंता का विषय है। क्या आप कारण जानते हैं?

क्यों नहीं खा सकते एक साथ खाना

हम सभी जानते हैं कि यात्रियों के रूप में हमारी सुरक्षा शांत और नियंत्रित उड़ान डेक पर निर्भर है। इसलिए, ग्राउंड पायलट और पायलट के लिए अलग-अलग नियम और गाइडलाइन हैं। नियम कहता है कि पायलटों और को-पायलटों को एक ही खाना नहीं खाना चाहिए। हलाकि FAA (फेडरल एविएशन एडमिनिस्ट्रेशन) की तरफ से आवश्यक नहीं है। ज्‍यादातर एयरलाइन्‍स में उनके ख़ास नियम हैं। लेकिन अब हर एयरलाइन इसका पालन करती है। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि इस प्रथा के पीछे वास्तव में एक बहुत ही तर्कसंगत कारण है।

यह है कारण

इस नियम का मुख्य कारण यह है कि अगर भोजन में कोई गड़बड़ी हो तो दूसरा पायलट एक पायलट की जिम्मेदारी संभाल सके। यह दोनों पायलटों के एक साथ फूड पॉइजनिंग की संभावना को कम करता है।

ये खाना उड़ान से पहले नहीं खा सकते

उन्हें उड़ान से पहले कच्ची मछली ना खाने का भी आग्रह किया जाता है। साथ ही, कई एयरलाइंस में को-पायलट को बिजनेस क्लास का भोजन मिलता है, जबकि पायलट को फर्स्ट कैटेगरी का भोजन मिलता है। कई एयरलाइंस पायलटों को अलग भोजन भी देती हैं।

ये नियम यात्रियों के लिए वरदान हैं

हालाँकि, फूड पॉइजनिंग जैसे मामले बहुत ही कम देखने को मिलते है। लेकिन इससे पायलट और को-पायलट दोनों बीमार हो सकते हैं, और यात्रियों की जान खतरे में पड़ सकती है। यही कारण है कि यह अजीब नियम आपकी अगली हवाई यात्रा को सुरक्षित बना सकता है!