home page

क्रिकेट खिलाड़ी खेलते वक्त होंठ और गाल पर सफेद-सफेद क्या लगाते है, जाने क्या होते है इसके फायदे

भारत में क्रिकेट सिर्फ एक खेल नहीं बल्कि एक त्यौहार की तरह मनाया जाता है। जब भी हम क्रिकेट मैच देखते हैं, तो कई बार हमारी नज़र क्रिकेटर्स के चेहरे पर लगी सफेद क्रीम पर जाती है।
 | 
क्रिकेट खिलाड़ी खेलते वक्त  होंठ और गाल पर सफेद-सफेद क्या लगाते है

भारत में क्रिकेट सिर्फ एक खेल नहीं बल्कि एक त्यौहार की तरह मनाया जाता है। जब भी हम क्रिकेट मैच देखते हैं, तो कई बार हमारी नज़र क्रिकेटर्स के चेहरे पर लगी सफेद क्रीम पर जाती है। यह क्रीम खासतौर पर उनके होंठ, गर्दन या चेहरे पर देखी जाती है। ऑस्ट्रेलिया के मशहूर क्रिकेटर एंड्यू साइमंड्स (Andrew Symonds) को अक्सर इस क्रीम के साथ खेलते देखा गया है। तो आइए जानते हैं कि यह क्रीम क्या है और इसका क्या काम होता है।

क्रिकेटर्स के चेहरे पर लगी सफेद क्रीम

आमतौर पर लोग समझते हैं कि यह एक साधारण सनस्क्रीन (Sunscreen) होती है, जिसका उपयोग धूप से बचने के लिए किया जाता है। मगर यह कोई आम सनस्क्रीन नहीं होती। वास्तव में यह जिंक ऑक्साइड (Zinc Oxide) से बनी होती है, जो कि आम सनस्क्रीन से कहीं अधिक प्रभावी होती है। जिंक ऑक्साइड स्किन को सूर्य की हानिकारक किरणों से बचाने में मदद करती है।

जिंक ऑक्साइड है एक फिजिकल सनस्क्रीन

यह क्रीम एक फिजिकल सनस्क्रीन (Physical Sunscreen) का काम करती है। इसका मतलब यह है कि यह स्किन पर एक एक्स्ट्रा परत (Layer) बनाकर काम करती है। जब क्रिकेटर्स लंबे समय तक धूप में खड़े होते हैं, तो यह सनस्क्रीन उन्हें धूप के प्रत्यक्ष संपर्क से बचाती है। जिंक ऑक्साइड स्किन को डैमेज (Damage) से बचाने के साथ-साथ धूप से होने वाले साइड इफेक्ट्स (Side Effects) को भी कम करती है।

स्किन प्रोटेक्शन का बेहतरीन उपाय

जिंक ऑक्साइड को स्किन प्रोटेक्शन (Skin Protection) के लिए एक बेहतरीन विकल्प माना जाता है। इसके उपयोग से न केवल जलन (Irritation) में आराम मिलता है, बल्कि सूजन (Inflammation) भी कम होती है। इसी कारण से क्रिकेटर्स और अन्य खिलाड़ी अपने चेहरे पर जिंक ऑक्साइड लगाकर खेलते हैं और अपनी स्किन का ख्याल रखते हैं।