home page

Vande Bharat: इस बड़ी वजह के चलते इस शहर में नही चलेगी वंदे भारत एक्सप्रेस, कारण सुनकर तो आपको भी नही होगा यकीन

Vande Bharat: भारतीय रेलवे (Indian Railways) की शान और देश की पहली सेमी हाईस्पीड ट्रेन, वंदे भारत (Vande Bharat) ने अपनी शानदार सेवाओं और अत्याधुनिक सुविधाओं के साथ यात्रियों का दिल जीत लिया है।
 | 
इस बड़ी वजह के चलते इस शहर में नही चलेगी वंदे भारत एक्सप्रेस

Vande Bharat: भारतीय रेलवे (Indian Railways) की शान और देश की पहली सेमी हाईस्पीड ट्रेन, वंदे भारत (Vande Bharat) ने अपनी शानदार सेवाओं और अत्याधुनिक सुविधाओं के साथ यात्रियों का दिल जीत लिया है। यह ट्रेन देश के 16 प्रमुख रूटों (Major Routes) पर दौड़ रही है, जिसमें बुलेट ट्रेन (Bullet Train) को भी टक्कर देने की क्षमता है।

बिलासपुर-नागपुर मार्ग पर वंदे भारत की यात्रा

विशेष रूप से बिलासपुर (Bilaspur) और नागपुर (Nagpur) के बीच 11 दिसंबर 2022 से शुरू हुई वंदे भारत ट्रेन की सेवा ने कारोबारी और दैनिक यात्रियों के बीच एक नया ऑप्शन प्रदान किया था। यह मार्ग दोनों शहरों के बीच रोजाना अप-डाउन करने वाले लोगों के लिए विशेष महत्व रखता है।

किराये और यात्री संख्या की चुनौती

हालांकि खबरों के अनुसार ज्यादा किराया (High Fare) और यात्रियों की कम संख्या (Low Passenger Count) के कारण इस मार्ग पर वंदे भारत ट्रेन की सेवा को बंद करने का निर्णय लिया गया है। यह खबर निश्चित रूप से उन यात्रियों के लिए निराशाजनक है जो इस ट्रेन की सेवाओं का लाभ उठा रहे थे।

तेजस एक्सप्रेस के साथ नई शुरुआत

रिपोर्ट्स के अनुसार वंदे भारत की जगह अब तेजस एक्सप्रेस (Tejas Express) को इस मार्ग पर चलाया जा रहा है। यह निर्णय यात्रियों की सुविधा और ट्रेनों की बेहतर उपयोगिता के नजर से लिया गया है।

रेल अधिकारियों ने किया स्पष्ट

इस खबर की सच्चाई जानने के लिए जब हमने रेलवे के अधिकारियों से संपर्क किया तो उन्होंने बताया कि बिलासपुर-नागपुर वंदे भारत की रेक को सिकंदराबाद-तिरुपति (Secunderabad-Tirupati) वंदे भारत के साथ जोड़ा जा रहा है। इस कदम का मुख्य उद्देश्य यात्री सुविधा (Passenger Convenience) और अधिक यात्रियों की आवश्यकताओं को पूरा करना है।

सिकंदराबाद-तिरुपति मार्ग पर वंदे भारत की बढ़ती डिमांड

यह निर्णय यात्रियों की बढ़ती मांग और सिकंदराबाद-तिरुपति रूट पर वेटिंग लिस्ट (Waiting List) को देखते हुए लिया गया है। अब इस रूट पर 16 कोच वाली वंदे भारत चलाई जा रही है, जबकि बिलासपुर-नागपुर रूट पर 8 कोच वाली वंदे भारत चलेगी।