home page

इस संत के कारण दुनियाभर में मनाया जाता है वैलेंटाइन डे, जाने इसके पीछे की पूरी कहानी

फरवरी का महीना चल रहा है और वैलेंटाइन डे 14 फरवरी को होने वाला है. इस महीने वेलेंटाइन वीक मनाया जा रहा है. इसके हर दिन का अपना अलग महत्व माना जाता है.
 | 
_Why Valentines day celebrated on 14th February (1)

फरवरी का महीना चल रहा है और वैलेंटाइन डे 14 फरवरी को होने वाला है. इस महीने वेलेंटाइन वीक मनाया जा रहा है. इसके हर दिन का अपना अलग महत्व माना जाता है. इसे लेकर दुनिया भर में उत्साह देखा जा रहा है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह प्रचलन में कैसे आया और इसे 14 फरवरी को ही क्यों मनाया जाता है. आखिर किसके नाम पर इसे मनाया जाता है, आज हम आपको इसी बारे में विस्तार से जानकारी देंगे.

संत वैलेंटाइन से जुड़ा है इतिहास

रोम के एक पादरी जिनका नाम संत वैलेंटाइन था, पूरी दुनिया भर में प्यार को बढ़ावा देने में यकीन करते थे. उस समय रूम के राजा क्लॉडियस थे. राजा को संत वैलेंटाइन का तौर- तरीका पसंद नहीं था. वह मानते थे कि प्रेम और विवाह से पुरुषों की बुद्धि कमजोर होती है और उनकी शक्तियों पर भी प्रभाव पड़ता है. इसलिए राजा के राज्य में जो भी सैनिक और अधिकारी थे, उन्हें विवाह करने की मनाही थी.

लोगों ने किया विरोध

हालांकि राजा के विरोध के बावजूद भी संत वैलेंटाइन ने लोगों को प्यार के लिए प्रेरित किया उनके प्रभाव से लोगों ने राजा की बातों को ना करना शुरू कर दिया और राज्य में सैनिकों और अधिकारियों ने लव मैरिज की और अपने जीवन को आगे बढ़ाया.

बहुत ज्यादा गुस्सा हुए और उन्होंने पादरी को फांसी देने का ऐलान कर दिया. 269 इसा में 14 फरवरी के दिन ही संत वैलेंटाइन को फांसी दे दी गई थी, इस बारे में 'ऑरिया ऑफ जैकोबस डी वॉराजिन' किताब में भी जिक्र है. इसके अनुसार जिस

दिन संत को फांसी दी गई थी, उस दिन को वैलेंटाइन डे के रूप में मनाया जाने लगा. बताया जाता है कि संत की मौत के बाद उनकी आंखों को जेलर की बेटी जैकोबस को दे दिया गया था. साथ ही एक लेटर भी था जिसमें लिखा था 'तुम्हारा वेलेंटाइन'.