home page

UP News: यमुना नदी पर जल पर्यटन का सबसे बड़ा हब बनाने की चल रही है प्लानिंग, जाने किन लोगों को होगा सबसे ज्यादा फायदा

ब्रजवासियों को अब मथुरा-वृंदावन भगवान के दर्शन की सुविधा के साथ-साथ यमुना का पर्यटन भी आकर्षित करेगा। यमुना नदी पर जल पर्यटन का बड़ा हब बनने वाला है
 | 
The biggest hub of water tourism on Yamuna river.

ब्रजवासियों को अब मथुरा-वृंदावन भगवान के दर्शन की सुविधा के साथ-साथ यमुना का पर्यटन भी आकर्षित करेगा। यमुना नदी पर जल पर्यटन का बड़ा हब बनने वाला है। एक क्रूज जहां पहुंच चुका है, वहीं दूसरा क्रूज आने को है। पर्यटकों को जलक्रीड़ा और परिवहन के कई साधन भी मिलेंगे।

आगामी सप्ताह तक उत्तर प्रदेश ब्रज तीर्थ विकास परिषद की पहल पर कैटामरीन क्रूज का संचालन, पहले मथुरा-वृंदावन के बीच और फिर गोकुल तक होगा। इसके बाद वृंदावन से गोकुल तक यमुना नदी पर जल पर्यटन का बड़ा हब बनाये जाने की योजना है।

यहां अयोध्या क्रूज लाईंस कंपनी ने मथुरा क्रूज लाइंस कंपनी नामक एक कंपनी बनाई है, जो जल परिवहन, जल क्रीड़ा और जल उत्सवों आदि के कई अन्य साधन भी संचालित किए जाने की योजना है।

कंपनी यमुना के किनारे वेटिंग पार्क, कार्यालय और यात्री स्टैंड भी बनाएगी। इससे स्थानीय लोग भी जल पर्यटन का आनंद उठा सकेंगे, साथ ही श्रद्धालु, पर्यटक और तीर्थ यात्री भी इसका आनंद उठा पाएंगे।

मार्च में उतरेगा सुदर्शन क्रूज

कैटामरीन क्रूज को गरुणा नामकरण दिया गया है और अब इसके संचालन के बाद ,मार्च में इससे भी बड़ा और लंबा सुदर्शन क्रूज को यमुना पर चलाने की योजना है।

सुदर्शन क्रूज में करीब 200 लोगों की क्षमता होगी। यात्रियों के लिए स्वल्पाहार, टी पार्टी और अन्य सामूहिक उत्सव भी इसमें किया जा सकेंगे।

यमुना में भी रेसर और वाटर स्कूबा चलेंगी।

सुदर्शन क्रूज के आगमन से पहले ही, यहां दो रेसर बोट और दो जल स्कूबा चलाने की योजना है। संचालन के अनुसार इनकी संख्या भी बढ़ाई जा सकती है। इससे यहां जल अठखेलियां और जल क्रीड़ाओं की भी शुरुआत हो जाएगी।

हाउसबोट में रह सकेंगे

क्रूज परिवहन की सफलता के बाद, कंपनी डल झील की तर्ज पर यमुना में भी हाउस बोट चलाने की योजना बना रही है। यहां पहले चरण में छह कमरों की हाउस बोट का संचालन करे की तैयारी शुरू कर दी गयी है। यहां आने वाले पर्यटक किराए पर कमरे ले सकेंगे। ये यमुना में तैरती रहेगी, जैसे हाउसवोट डल झील में तैरती रहती है।

जैसा कि अयोध्या क्रूज लाईंस के डायरेक्टर अतुल कुमार तेवतिया ने बताया, कैटामरीन के अवतरण के बाद दो रेसर बोट, लंबे और बड़े सुदर्शन क्रूज के साथ

दो जल स्क्यूबा चलाने की तैयारी है। क्रूज की सफलता के बाद यहां पहले चरण में छह कमरों वाली हाउसबोट भी चलाने की योजना है। जिसकी वजह से यमुना जल पर्यटन का हब बन जायेगा।