home page

Unmarried Couple Rules: कुंवारे लड़का और लड़की बिना शादी के होटल में रुक सकते है ? लगभग लोगों को इस नियम को नही होती जानकारी

कुछ लोग अनमेरिड कपल के कई अधिकारों को नहीं जानते। जैसे, एक होटल में अनमैरिड कपल का एक कमरे में रहना कानून अपराध नहीं है
 | 
unmarried boy and girl

कुछ लोग अनमेरिड कपल के कई अधिकारों को नहीं जानते। जैसे, एक होटल में अनमैरिड कपल का एक कमरे में रहना कानून अपराध नहीं है। ऐसे में आपको डरने की जरूरत नहीं है अगर पुलिस आप से पूछताछ करती है।

आप अपने अधिकारों के अनुसार पुलिस से बातचीत कर सकते हैं। हम कॉमन मैन के अधिकारों पर एक सीरीज चला रहे हैं। आज अनमैरिड कपल को मिले छह अधिकारों के बारे में यहाँ बता रहे हैं, जो आप सभी को पता होने चाहिए।

पुलिस को नहीं है गिरफ्तार करने का हक़

होटल एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने कहा कि कोई भी कानून बालिग लड़के लड़कियों को होटल में एक कमरे में रहने से नहीं रोकता है। दोनों के पास आईडी कार्ड होना चाहिए। पुलिस को कोई संदेह होने पर पूछताछ करने का अधिकार है, लेकिन ऐसे में गिरफ्तार करने का अधिकार नहीं है।

मगर ये करना पे हो सकती है करवाई

सार्वजनिक स्थानों पर अश्लील हरकत करना निश्चित रूप से गैरकानूनी है। ऐसा करते पाए जाने पर कानूनी कार्रवाई हो सकती है। हलाकि भारत में, कोई भी बालिग अपनी इच्छा से होटल में रह सकता है।

हाईकोर्ट एडवोकेट ने बताया कि अगर पुलिस ऐसी स्थिति में कार्रवाई करती है तो क्या करे।

• भारतीय वयस्कता अधिनियम के अनुसार, 18 साल की लड़की और 21 साल के लड़के को अपनी मर्जी से शादी करने और संबंध बनाने का अधिकार है, जैसा कि मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के एडवोकेट संजय मेहरा ने बताया।

• बालिग युवक-युवती किसी भी होटल में कमरा बुक कर सकते हैं। उन्हें आईडी प्रूफ देना होगा। ID प्रूफ देने के बाद होटल संचालक रूम बुकिंग करने से मना नहीं कर सकता।

• ऐसे में, युवा-युवती पुलिस को अपने रिश्ते के बारे में बता सकते हैं अगर पुलिस छापा मारती है। और अपना आईडेंटिटी प्रूफ दिखा सकते हैं और अपने परिवार से बात करा सकते हैं।

• ऐसे मामलों में पुलिस इम्मोरल ट्रैफिक एक्ट के तहत कार्रवाई करती है। यह कानून अनैतिक गतिविधियों को रोकने के लिए बनाया गया है, लेकिन पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर सकती अगर युवक-युवती का आपस में संबंध है और इसकी जानकारी उनके घर में भी है।

• कई होटलों में कमरे नहीं मिलते क्योंकि उन्हें पुलिस कार्रवाई का डर रहता है। नियमित रूप से स्थानीय प्रशासन भी ऐसे दिशा-निर्देश देता रहता है, लेकिन जिन युवक-युवतियों के संबंध सही हैं और उनके परिजनों को भी पता है, वे पुलिस से बात उनकी बात करवा सकते हैं।