पटरियों पर दौड़ रही ट्रेन में अब पानी की समस्या का नही करना पड़ेगा सामना, मोबाइल में मिल जाएगा मैसेज

By Vikash Beniwal

Published on:

गर्मियों में सफर के दौरान यात्रियों को कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है, जिनमें से एक प्रमुख समस्या ट्रेन के शौचालयों में पानी की कमी होती है। पानी की कमी के कारण यात्रियों को भारी असुविधा होती है और ट्रेन स्टाफ को भी पता नहीं चल पाता है कि किस कोच में पानी खत्म हो चुका है। अब भारतीय रेलवे ने इस समस्या का समाधान ढूंढ लिया है।

कोच वाटर लेवल इंडिकेटर सह अलर्ट सिस्टम का परिचय

पूर्वोत्तर रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी पंकज कुमार सिंह के अनुसार, यात्रियों की सुविधा के लिए ट्रेन के कोच में पानी कम होने पर ‘ट्रेनों में कोच वाटर लेवल इंडिकेटर सह अलर्ट सिस्टम’ लगाया गया है। इस सिस्टम को इज्जतनगर के सी.बी. गंज डिपो ने तैयार किया है।

समस्या का समाधान

ट्रेनों के कोच में पानी न होने की शिकायतों पर इज्जतनगर मंडल के ट्रेन सेट डिपो, सी.बी. गंज द्वारा एक कोच वाटर लेवल इंडिकेटर सह अलर्ट सिस्टम बनाया गया है। इसमें कोच में लगे पानी के टैंक के नीचे एक वाटर लेवल सेंसर कोच के अंदर अलर्ट यूनिट लगाई गई है जिससे कोच में पानी की स्थिति का पता चलता है।

सिस्टम का काम करने का तरीका

इस सिस्टम के अंतर्गत, जब ट्रेन की टंकी में पानी भरा हुआ होता है, तो इस यूनिट में टंकी में पानी भर जाने का संदेश ‘हरा’ एल.ई.डी. के साथ प्रदर्शित होता है। जब पानी का स्तर 50 प्रतिशत तक पहुंच जाता है, तो डिस्प्ले पर ‘पीला’ एल.ई.डी. के साथ एक संदेश देता है। इसके साथ ही दिए गए मोबाइल नंबर पर एक एसएमएस अलर्ट भी जाता है। इस अलर्ट में उस स्थान के जीपीएस कोऑर्डिनेट भी होते हैं जिसे क्लिक करने पर उस स्थान की लोकेशन गूगल मैप पर भी देखी जा सकती है।

यात्रियों के लिए लाभ

इस सिस्टम के लगने से यात्रियों को अब ट्रेन के शौचालयों में पानी की कमी की समस्या से जूझना नहीं पड़ेगा। ट्रेन स्टाफ को भी पानी की स्थिति की जानकारी मिल जाएगी और वे अगले स्टेशन पर पानी भरने की व्यवस्था कर सकेंगे। इससे यात्रियों की यात्रा सुखद और सुविधाजनक होगी।

परियोजना का क्रियान्वयन

इज्जतनगर मंडल ने इस परियोजना को सफलतापूर्वक लागू किया है और इसके प्रारंभिक परीक्षण भी किए गए हैं। परीक्षण के दौरान यह प्रणाली पूरी तरह से सफल साबित हुई है और उम्मीद है कि इसे जल्द ही सभी ट्रेनों में लागू किया जाएगा।

भविष्य की योजनाएं

भारतीय रेलवे भविष्य में इस सिस्टम को और उन्नत बनाने की योजना बना रहा है। इसमें और भी कई नई तकनीकों को जोड़ने की संभावना है जिससे यात्रियों को अधिक से अधिक सुविधा मिल सके। रेलवे का यह प्रयास यात्रियों की यात्रा को और भी आरामदायक और सुखद बनाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

Vikash Beniwal

मेरा नाम विकास बैनीवाल है और मैं हरियाणा के सिरसा जिले का रहने वाला हूँ. मैं पिछले 4 सालों से डिजिटल मीडिया पर राइटर के तौर पर काम कर रहा हूं. मुझे लोकल खबरें और ट्रेंडिंग खबरों को लिखने का अच्छा अनुभव है. अपने अनुभव और ज्ञान के चलते मैं सभी बीट पर लेखन कार्य कर सकता हूँ.