home page

भारत का ये गांव है काला जादू के लिए बदनाम, रात को छोड़ों बल्कि दिन में जाने से डरते है लोग

भारत में अनेकों गांव है. यहां पर अलग-अलग संस्कृति और सभ्यता को मानने वाले लोग रहते हैं. कई सभ्यताएं और संस्कृतियों तो काफी लंबे समय से चलती आ रही है.
 | 
assam black magic is dangerous

भारत में अनेकों गांव है. यहां पर अलग-अलग संस्कृति और सभ्यता को मानने वाले लोग रहते हैं. कई सभ्यताएं और संस्कृतियों तो काफी लंबे समय से चलती आ रही है. आज हम आपको भारत के एक ऐसे राज्य के बारे में जानकारी देंगे जिस काला जादू के लिए जाना जाता है.

यह भारत के असम राज्य में स्थित है. ऐसा माना जाता है कि यहां काला जादू किया जाता है. लोग यह भी कहते हैं कि अगर कोई साधारण नागरिक उसे गांव में चला जाए तो वापस आना बहुत ज्यादा मुश्किल है. आज हम आपको इसी बारे में विस्तार से जानकारी देंगे.

ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे है यह गांव

असम की जिस गांव की हम बात कर रहे हैं वह राजधानी गुवाहाटी से 40 किलोमीटर दूर स्थित है. यह ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे स्थित है. इसका नाम मायोंग है. इस गांव को अपने काले जादू के लिए जाना जाता है. ऐसा मानते हैं कि यह यहां के ग्रामीण अपनी रक्षा के लिए काला जादू का प्रयोग करते हैं.

 ये है मायोंग का अर्थ

दरअसल यह शब्द संस्कृत भाषा के शब्द माया से लिया हुआ है. इसका उल्लेख महाभारत काल में भी किया गया है. भीम के पुत्र का नाम घटोत्कच था. वह काफी मायावी था. घटोत्कच यही का राजा था. प्राचीन कहानियां के अनुसार मायाग गांव में एक ऐसी भी जगह है जिसे बूढ़े मयोंग के नाम से जाना जाता है. ऐसी मान्यताएं हैं कि यहां तांत्रिक साधना करते हैं, उसके बाद तंत्र विद्या में सिद्धि प्राप्त करते हैं.

 काला जादू चली जाती है जान भी

कई बार काला जादू या अन्य अंधविश्वासों की वजह से इंसान को जान से भी हाथ धोना पड़ जाता है. असम में इसे रोकने के लिए कानून भी लागू किया गया है. असम का विच हंटिंग प्रोविजन प्रीवेंशन एक्ट 2015 इस तरीके के क्रियाकलापों पर पाबंदी लगाता है.

इस कानून के अंतर्गत बालों को काट देना या जलाना, घसीटना, सार्वजनिक पिटाई करना, नाक या शरीर का अन्य कोई अंग भंग करना, चेहरा काला करना, कोड़े लगाना, पत्थर मारना, लटका देना, चाकू भोंकना, जलाना, जबरन मुंडन करा देना, दांत तोड़ देना, किसी गर्म चीज से या पैने हथियार से शरीर पर निशान बना देना आदि शामिल है.