home page

बिना सिंचाई और बिना खाद के बंपर कमाई करवा सकता है ये अनाज, 400 ग्राम बीज से 9 क्विंटल मिल सकती है पैदावार

भारतीय आयुर्वेद में रागी (Millet) को एक अनमोल खजाने के रूप में माना गया है। इसे विभिन्न नामों जैसे मडुआ, बाजरा, फिंगर मिलेट या नचनी से भी जाना जाता है।
 | 
 health benefits of finger millets

भारतीय आयुर्वेद में रागी (Millet) को एक अनमोल खजाने के रूप में माना गया है। इसे विभिन्न नामों जैसे मडुआ, बाजरा, फिंगर मिलेट या नचनी से भी जाना जाता है। यह छोटा अनाज (Small Grain) पोषक तत्वों के लिहाज से बेहद खास है। इसमें कैल्शियम (Calcium), विटामिन्स (Vitamins), फाइबर (Fiber) और कार्बोहाइड्रेट्स (Carbohydrates) जैसे आवश्यक पोषक तत्व पाए जाते हैं।

साधारण खेती में है असाधारण लाभ

रागी की खेती (Ragi Cultivation) की सबसे बड़ी खासियत यह है कि इसे उपजाने के लिए ना तो ज्यादा सिंचाई की जरूरत होती है और ना ही उर्वरक खाद की। यह बहुत कम समय में और कम लागत में उगाया जा सकता है, जिससे यह किसानों (Farmers) के लिए काफी लाभदायक साबित होता है।

न्यूनतम लागत में ज्यादा उत्पादन

प्रोफेसर अशोक कुमार सिंह (मृदा विज्ञान व कृषि रसायन विभाग के विभागाध्यक्ष) के अनुसार रागी (Ragi) एक छोटा अनाज है लेकिन इसके फायदे बड़े हैं। इसकी खेती में केवल जुताई, बुवाई और कटाई का खर्चा आता है, बाकी कोई अतिरिक्त खर्चा नहीं होता। इससे किसानों को अच्छी आय (Good Income) प्राप्त होती है।

स्वास्थ्य वर्धक गुण

रागी में अनेकों औषधीय गुण (Medicinal Properties) पाए जाते हैं। इसका सेवन शरीर के लिए बेहद लाभदायक होता है, खासकर बड़े फाइव स्टार होटलों में रागी की खीर (Ragi Kheer) बड़ा चर्चित है। इसके अलावा यह गेहूं और चावल (Wheat and Rice) के मुकाबले स्वास्थ्य के लिए अधिक लाभदायक माना जाता है।

उम्मीद की नई किरण

बलिया जिले में मृदा विज्ञान व कृषि रसायन विभाग की टीम ने रागी पर एक शोध (Research) किया है, जिससे किसानों में नई उम्मीद की किरण जगी है। इस छोटे अनाज की खेती से न केवल स्वास्थ्य लाभ होगा बल्कि आर्थिक स्थिति (Economic Condition) में भी सुधार आएगा। यहां तक कि बंजर जमीन (Barren Land) पर भी रागी उगाई जा सकती है, जो इसकी विशेषता को और भी अधिक बढ़ा देती है।

रागी की खेती करना न केवल आसान है बल्कि इससे बड़ी मात्रा में उत्पादन (Production) भी संभव है। मात्र 400 ग्राम बीज से 8 से 10 कुंतल रागी उत्पन्न की जा सकती है, जो इसे एक लाभकारी फसल (Profitable Crop) बनाती है।