home page

बैंक लॉकर में इन चीजों को रखने पर है सख्त पाबंदी, अगर लेकर चले गये तो हो सकती है दिक्कत

आज के दौर में पर्सनल और मूल्यवान सामान की सुरक्षा एक अहम् प्राथमिकता है। इसी कड़ी में बैंक लॉकर (Bank Locker) सुविधा एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।
 | 
Bank Locker New Rule

आज के दौर में पर्सनल और मूल्यवान सामान की सुरक्षा एक अहम् प्राथमिकता है। इसी कड़ी में बैंक लॉकर (Bank Locker) सुविधा एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। चाहे वह व्यक्ति हो, कंपनियां (Companies), पार्टनरशिप फर्म (Partnership Firms), लिमिटेड कंपनियां (Limited Companies), एसोसिएशन (Associations) या क्लब (Clubs) सभी इस सुविधा का लाभ उठाते हैं।

आरबीआई द्वारा निर्देशित लॉकर समझौता

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने बैंक लॉकर सुविधा के लिए कुछ दिशा-निर्देश (Guidelines) तैयार किए हैं। ये दिशा-निर्देश सभी मौजूदा लॉकर धारकों (Locker Holders) द्वारा अनिवार्य रूप से पालन किए जाने चाहिए। आरबीआई ने लॉकर समझौतों (Locker Agreements) को क्रमबद्ध और व्यवस्थित तरीके से अंजाम देने के लिए 31 दिसंबर 2023 तक की समय सीमा निर्धारित की है।

बैंक लॉकर का उचित उपयोग

बैंक लॉकर्स का उपयोग मुख्य रूप से गहने (Jewellery), दस्तावेज (Documents) और अन्य कीमती सामान (Valuables) के सुरक्षित संग्रहण के लिए किया जा सकता है। हालांकि नकदी (Cash) या मुद्रा (Currency) को लॉकर में रखना प्रतिबंधित है।

इसके अलावा एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank), आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank), एसबीआई (SBI), यस बैंक (Yes Bank), केनरा बैंक (Canara Bank) जैसे प्रमुख बैंकों ने अपने लेटेस्ट बैंक लॉकर शुल्क (Locker Fees) भी जारी कर दिए हैं।

सख्त नियमों का पालन अनिवार्य

बैंक लॉकर के उपयोग के संदर्भ में सख्त नियम (Strict Rules) लागू होते हैं। उदाहरण के लिए एसबीआई (SBI) और पीएनबी (PNB) जैसे बैंकों ने स्पष्ट किया है कि लॉकर में केवल वैध उद्देश्यों के लिए ही सामान स्टोर किए जा सकते हैं।

हथियार (Weapons), विस्फोटक (Explosives), ड्रग्स (Drugs) या कोई भी प्रतिबंधित सामग्री (Prohibited Materials), खराब होने वाली सामग्री (Perishable Items), रेडियोधर्मी किरणें पैदा करने वाली सामग्री (Radioactive Materials) या कोई अवैध पदार्थ (Illegal Substances) लॉकर में रखने की मनाही है।

ग्राहकों को जानकारी प्रदान करना

RBI ने सभी बैंकों को आदेश दिया है कि वे लॉकर की सुविधा प्रदान करने से पहले ग्राहकों (Customers) को इन नियमों के बारे में अवगत कराएं। यदि किसी ग्राहक को इन नियमों की जानकारी नहीं है, तो वे बैंक में जाकर इसकी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।