home page

इस ज्वालामुखी के नीचे मिला दुनिया का सबसे बेशकीमती खजाना, पर इस एक डर के कारण खजाने के पास जाने से भी होती है घबराहट

अगर आपको कहीं से सोना मिल जाए तो यह किस नहीं पसंद होता है। लेकिन भारत में लोग सोने को इन्वेस्टमेंट के तौर पर रखते हैं। 
 | 
इस ज्वालामुखी के नीचे मिला दुनिया का सबसे बेशकीमती खजाना

अगर आपको कहीं से सोना मिल जाए तो यह किस नहीं पसंद होता है। लेकिन भारत में लोग सोने को इन्वेस्टमेंट के तौर पर रखते हैं। लेकिन बहुत कम लोगों ने सफेद सोने के बारे में सुना है। यह एक ऐसी सोने की खदान है जिसके पीछे करोड़ों लोग भागते हैं इस सफेद सोने की कीमत करोड़ों में है। ऐसे में कंपनी इस पर लाखों करोड़ों रुपए भी खर्च कर देती है। आज हम आपको ऐसी जगह के बारे में बताएंगे जहां पर यह सफेद सोना पाया जाता है। दरअसल ज्वालामुखी के नीचे सफेद सोने की खदान है। कितना ज्यादा सोना है कि चीन जैसे देश को मुंहतोड़ जवाब दिया जा सकता है।

बहुत बड़ी है सोने की खदान

सोने की यह खदान अमेरिका में मौजूद है प्राचीन ज्वालामुखी नाम डाकडीमैट कलडेरा है। यहां पर सफेद सोने का भंडार पाया जाता है। आज तक दुनिया को इसके बारे में बिल्कुल भी पता नहीं था लेकिन यहां भारी मात्रा में लिथियम मिलने की बात सामने आई है और अब पूरी दुनिया की नजर इस जगह पर है। यहां पर कितना ज्यादा लिथियम पाया जाता है कि दुनिया की सभी ज़रूरतें खत्म की जा सकती है।

सभी करते हैं लिथियम का इस्तेमाल

यह तो आप जानते ही होंगे कि लिथियम का एक बहुत बड़ा उपयोग है जिससे हम फोन से लेकर लैपटॉप के चार्जर तक में इस्तेमाल करते हैं। जब से इसका इस्तेमाल इलेक्ट्रिक कारों के लिए बैटरी बनाने में होने लगा है तब से इसकी मांग और भी बढ़ गई है। कंपनियां इसे खजाना कहती हैं। और अगर ये कहीं मिल भी जाए तो उसके पीछे भागते नजर आते हैं। लिथियम की खोज 2020 में अमेरिकी वैज्ञानिकों ने मैकडरमिट काल्डेरा ज्वालामुखी में की थी। उन्होंने कहा था कि यहां लिथियम की सबसे बड़ी मात्रा हो सकती है।