home page

बिहार का सबसे छोटा ज़िला जो पौराणिक और धार्मिक इतिहास से है खास, बहुत कम लोगों को पता है इसका नाम

भारत के उत्तर-पूर्वी भाग में स्थित बिहार (Bihar) अपने गौरवशाली इतिहास (Historical Significance) और समृद्ध संस्कृति (Rich Culture) के लिए विख्यात है।
 | 
the-smallest-district-of-bihar

भारत के उत्तर-पूर्वी भाग में स्थित बिहार (Bihar) अपने गौरवशाली इतिहास (Historical Significance) और समृद्ध संस्कृति (Rich Culture) के लिए विख्यात है। प्राचीन काल में मगध (Magadh) के नाम से प्रसिद्ध यह राज्य आध्यात्मिकता (Spirituality) और धर्म के मिलन की भूमि रहा है। रामायण काल में राजा जनक के साम्राज्य से लेकर जैन और बौद्ध धर्म के पवित्र स्थलों तक बिहार धार्मिक आस्था (Religious Faith) का केंद्र रहा है।

विविधता और विस्तार

जनसंख्या (Population) की दृष्टि से भारत का तीसरा सबसे बड़ा और क्षेत्रफल (Area) की दृष्टि से बारहवां राज्य बिहार अपनी विविधताओं का भंडार है। इस राज्य में 38 जिले (Districts) हैं, जिनमें प्रत्येक की अपनी एक यूनिक पहचान (Unique Identity) और खासियत है।

पश्चिम चंपारण है विशालता की मिसाल

बिहार के सबसे बड़े जिले पश्चिम चंपारण (West Champaran) की खासियत इसकी भौगोलिक स्थिति (Geographical Location) और प्राकृतिक संपदा (Natural Wealth) में निहित है। हिमालय के तराई क्षेत्र में बसे इस जिले का नाम 'चंपा + अरण्य' से मिलकर बना है, जिसका मतलब है चंपा के पेड़ों से घिरा जंगल।

प्राकृतिक विविधता और खेती

गंडक और सिकरहना जैसी नदियों की उपस्थिति इस जिले की भूमि को अत्यधिक उपजाऊ (Fertile Land) बनाती है, जिससे यहां खेती (Agriculture) मुख्य व्यवसाय है। बासमती चावल (Basmati Rice) और गन्ना (Sugarcane) यहाँ की प्रमुख फसलें हैं, जिन्हें विदेशों में भी निर्यात किया जाता है।

पर्यटन और वन्यजीव

पश्चिम चंपारण में बौद्धकालीन स्तूप (Buddhist Stupa) और राजकीय चितवन नेशनल पार्क (Valmiki National Park) जैसे पर्यटन स्थल (Tourist Places) हैं। इस जिले का वन्य जीवन (Wildlife) भी बहुत समृद्ध है, जिसमें बाघ (Tigers), काला हिरण (Black Deer), साँभर, चीतल आदि शामिल हैं।

बिहार का छोटा पर महत्वपूर्ण जिला

बिहार के सबसे छोटे जिले शिवहर (Sheohar) में भी अपना एक खास महत्व है। इस जिले का पौराणिक और धार्मिक इतिहास (Mythological and Religious History) इसे विशेष बनाता है। शिवहर अपनी उपजाऊ जमीन और सांस्कृतिक धरोहर (Cultural Heritage) के लिए जाना जाता है।