home page

150 साल पहले जिस मुकुट को लूटकर लेकर गये थे अंग्रेज वो मिलेगा वापस, इस मजबूरी के चलते वापस लौटाने को तैयार हुई अंग्रेजी सरकार

ब्रिटिश हुकूमत के दौरान भारत सहित कई देशों से अमूल्य संपत्तियों की लूट हुई। इस दौर में अंग्रेजों ने अपनी साम्राज्यवादी नीतियों के तहत कई देशों से कीमती रत्न, सोने-चांदी और मुकुट जैसी अनेक संपत्तियां लूटीं। 
 | 
uk-sending-ghana-crown-jewels

ब्रिटिश हुकूमत के दौरान भारत सहित कई देशों से अमूल्य संपत्तियों की लूट हुई। इस दौर में अंग्रेजों ने अपनी साम्राज्यवादी नीतियों के तहत कई देशों से कीमती रत्न, सोने-चांदी और मुकुट जैसी अनेक संपत्तियां लूटीं। 

घाना के असांते मुकुट की वापसी 

अब, ब्रिटिश सरकार ने 150 साल पहले घाना के असांते राज्य से लूटे गए एक मुकुट को वापस लौटाने का निर्णय लिया है। यह मुकुट विक्टोरिया और अल्बर्ट संग्रहालय में रखा गया था। इस फैसले को ऐतिहासिक माना जा रहा है। 

अतीत की संस्कृति की वापसी 

ब्रिटिश सरकार ने न केवल मुकुट बल्कि 31 अन्य ऐतिहासिक वस्तुएं भी वापस करने का वादा किया है। इस निर्णय का नेतृत्व घाना के मुख्य वार्ताकार और असांते के राजा ओटुमफो ओसेई टूटू सेकेंड ने किया है। 

ब्रिटिश संग्रहालयों का भविष्य और चिंताएं 

यह फैसला ब्रिटेन के संग्रहालयों के लिए एक मोड़ साबित हो सकता है। ब्रिटेन सरकार ने पहले इन संपत्तियों के उधार देने पर प्रतिबंध लगाया था, लेकिन विश्वव्यापी विरोध के बाद इसे उधार के तौर पर देने की शुरुआत की गई। इस पर V&A म्यूजियम के निदेशक ट्रिस्ट्राम हंट ने कहा कि इस प्रक्रिया के जारी रहने से संग्रालय खाली हो सकते हैं। 

वैश्विक संदर्भ और इतिहास का सम्मान 

इस फैसले को विश्व संस्कृति के इतिहास के सम्मान के रूप में देखा जा रहा है। अतीत की ऐतिहासिक वस्तुओं की वापसी से जुड़े देशों में उनकी सांस्कृतिक और ऐतिहासिक विरासत का संरक्षण सुनिश्चित होता है।