home page

कर्मचारियों की बढ़ती हुई तोंद को देख सरकार की बढ़ी टेन्शन, मीटिंग्स में समोसे-कचौड़ी खाने पर लगाया बैन

भारत में हर व्यक्ति सरकारी नौकरी करने का सपना देखता है। आखिर ये सपना देखे भी क्यों ना? सरकारी नौकरी मिलने पर बुढ़ापे तक सहारा मिलता है
 | 
tension increased among

भारत में हर व्यक्ति सरकारी नौकरी करने का सपना देखता है। आखिर ये सपना देखे भी क्यों ना? सरकारी नौकरी मिलने पर बुढ़ापे तक सहारा मिलता है। सरकारी दफ्तर में लोग काम करते हुए चाय और नाश्ते का मज़ा लेते हैं। अब तक, सरकारी मीटिंग्स के नाश्ते में समोसे कचौड़ी और जलेबी दी जाती थी। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा।

सरकारी मीटिंग्स में मिलने वाले स्नैक्स का मेन्यू हाल ही में बदल गया है। इसके लिए एक विभागीय पत्र जारी किया गया, जो अब वायरल हो रहा है। ये नया मेनू सोशल मीडिया पर बहुत चर्चा में है। भजनलाल सरकार के कार्मिक विभाग द्वारा अब सरकारी मीटिंग्स में नए मेनू के अनुसार खाना दिया जायेगा। इसमें समोसा, कचौड़ी या जलेबी नहीं मिलेगी, बल्कि रोस्टेड आइटम्स मिलेंगे।

अब मिलेंगी ये चीज़े

तली-भुनी और फ्राईड चीजों से सरकारी कर्मचारियों की सेहत पर खराब असर पड़ रहा था। इसलिए मेनू में बदलाव किया गया। अब मीटिंग्स में रोस्टेड चना, रोस्टेड मूंगफली, मखाने और मल्टी ग्रेन डाइजेस्टिव बिस्किट्स दिए जायेंगे। ये मेन्यू कर्मचारियों की सेहत को ध्यान में रखकर बनाए गए हैं। इसके लिए आदेश जारी कर दिए गए हैं।

पानी के लिए भी बनाये गए नियम

मीटिंग में सिर्फ नाश्ते का ही मेन्यू नहीं बदला गया है, बल्कि पानी के नियम भी बदले गए है। पीने के पानी को लेकर भी नए नियम बनाए गए हैं। प्लास्टिक बोतल में पानी अब सर्व नहीं होगा। अधिकारियों और कर्मचारियों को कांच के गिलास और बोतल में पानी मिलेगा। सचिवालय की बैठक में ये बदलाव देखे जाएंगे। ऑर्डर 28 जनवरी को ही जारी किया गया है।