home page

Sarso Tel Price: होली से पहले ही धड़ाम से गिरी सरसों तेल की कीमतें, 1 या 2 लीटर की जगह लोग जमकर कर रहे खरीदारी

भारतीय रसोईघरों (Indian Kitchens) में सरसों का तेल (Mustard Oil) एक अहम स्थान रखता है।
 | 
होली से पहले ही धड़ाम से गिरी सरसों तेल की कीमतें

भारतीय रसोईघरों (Indian Kitchens) में सरसों का तेल (Mustard Oil) एक अहम स्थान रखता है। इसके बिना खाने का स्वाद (Taste) अधूरा माना जाता है। लेकिन हाल ही में सरसों के तेल के दामों में आई भारी गिरावट (Price Drop) ने खरीदारों के लिए एक सुनहरा मौका है। खासकर होली (Holi) के त्यौहार से पहले जब सभी लोग अनेकों पकवानों को बनाने के लिए तैयारी में जुटे होते हैं।

सरसों के तेल की कीमतों में ऐतिहासिक गिरावट

मौजूदा समय में सरसों के तेल के दाम 60 रूपए तक गिर गए हैं, जो कि उपभोक्ताओं (Consumers) के लिए एक खुशखबरी (Good News) है। इस गिरावट से न केवल आम आदमी बल्कि व्यापारी (Traders) भी उत्साहित हैं, क्योंकि इससे बाजार में डिमांड (Demand) में बढ़ोतरी की उम्मीद है।

कीमतों में गिरावट के पीछे के कारण

सरसों के तेल की कीमतों में इस गिरावट के पीछे कई कारण (Reasons) हैं। पहला सरसों की आवक (Arrival) में बढ़ोतरी हुई है, जिससे मार्केट में सरसों के तेल की उपलब्धता (Availability) बढ़ी है। दूसरा कोरोना महामारी (Pandemic) के बाद में सरसों के तेल के दाम ने आसमान छू लिया था, लेकिन अब स्थिति सामान्य होती जा रही है।

उत्तर प्रदेश में सरसों के तेल के दाम

उत्तरप्रदेश (Uttar Pradesh) में खासकर लखनऊ (Lucknow) और सीतापुर (Sitapur) जैसे शहरों में सरसों के तेल की कीमतों में बड़ी गिरावट देखी गई है। लखनऊ में सरसों का तेल 143 रूपए प्रति लीटर मिल रहा है, जबकि सीतापुर में 144 रूपए। इस गिरावट ने निवासियों को होली के त्यौहार के लिए खरीदारी करने का एक बेहतरीन मौका दिया है।

खरीदारी का सुनहरा मौका

इस समय सरसों के तेल की खरीदारी करना उपभोक्ताओं के लिए एक सुनहरा मौका (Golden Opportunity) है। बाजार के जानकारों का कहना है कि अभी सरसों के तेल के दाम अपने निचले स्तर (Lowest Level) पर हैं, और आने वाले समय में इसमें बढ़ोतरी हो सकती है। इसलिए अगर आपने अभी खरीदारी नहीं की तो आपके हाथ से यह मौका फिसल सकता है।