home page

RBI Update: बैंक खाते में पैसे जमा करवाने की क्या है नई लिमिट, इस लिमिट से ज्यादा पैसा खाते में मिला तो हो सकती है कार्रवाई

500-1000 के नोटों के बंद होने और अब 2,000 के नोटों के चलन से बाहर होने के बाद कैश डिपॉजिट, बैंक अकाउंट और अन्य बैंकिंग नियमों को लेकर लोगों में एक भय और उत्सुकता का भाव है
 | 
rbi-update-new-limit-for-depositing-money-in-bank-account

500-1000 के नोटों के बंद होने और अब 2,000 के नोटों के चलन से बाहर होने के बाद कैश डिपॉजिट, बैंक अकाउंट और अन्य बैंकिंग नियमों को लेकर लोगों में एक भय और उत्सुकता का भाव है। कि कहीं उनके लिए कोई नियम अचानक न बदल जाए। यदि ऐसा होता है कि आपका बैंक अकाउंट इस विशिष्ट कारण से बंद हो सकता है,

RIB की रिपोर्ट जांच 

तो निश्चित रूप से लोगों में पैनिक होगा और उन्हें पता चलेगा कि क्या हो रहा है। ऐसे में धोखा देने वाली खबरें भी अच्छी तरह चलती हैं। PIB ने ऐसी ही एक रिपोर्ट पर तथ्यों की जांच की है। दरअसल, एक खबर छपी थी कि केंद्रीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि अगर किसी व्यक्ति के खाते में 30 हजार रुपये से अधिक रकम है तो

उनका बैंक अकाउंट इसलिए बंद हो जाएगा। पीआईबी ने कहा कि ऐसा नहीं है और आरबीआई ऐसा कोई नियम नहीं बना रहा है।

बैंक में पैसे रखने की कोई सीमा है?

रिजर्व बैंक के नियमों के अनुसार, देश में आपके बैंक अकाउंट में कितना धन हो सकता है, चाहे वह हजारों, लाखों या करोड़ों हो।

और आप कितने भी पैसे निकालें, कोई बाधा नहीं है। हां, आपको हर पाई को बताना चाहिए कि वह कहां से और कैसे आई है। 

न्यूनतम बैलेंस का नियम अनिवार्य है

लेकिन मैक्सिमम बैलेंस का नियम बैंकों में होता है। यानी कि कम से कम आपके बैंक खाते में एक निश्चित राशि होनी चाहिए,

चार्ज धीरे-धीरे नीचे गिरने लगता है। हर बैंक का न्यूनतम बैलेंस एक निश्चित राशि है; सरकारी बैंकों में यह कम हो सकता है, लेकिन निजी बैंकों में अधिक हो सकता है।

कैश भुगतान नियम

हां, देश में कैश जमा करने के नियम हैं। आप एक बार में एक लाख रुपये कैश या नगद अपने सेविंग्स अकाउंट में जमा कर सकते हैं। वहीं, आप एक वर्ष में सिर्फ 10 लाख रुपये कैश में जमा कर सकते हैं।

यदि आपको अधिक पैसा जमा करना हो तो आप ऑनलाइन ट्रांसफर कर सकते हैं। आरबीआई ने बैंकों को कहा है कि वे 10 लाख रुपये से अधिक के डिपॉजिट या विदड्रॉल पर नजर रखें और ऐसे मामलों का अलग रिकॉर्ड रखें।