home page

RBI ने सेविंग अकाउंट में नकदी रखने की लिमिट की तय, जाने सेविंग अकाउंट में कितना रख सकते है पैसे

भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने हाल ही में सेविंग खातों में नकदी रखने की नई लिमिट तय की है, जो बैंक अकाउंटधारकों और विशेष रूप से सेविंग अकाउंट रखने वालों के लिए महत्वपूर्ण जानकारी है।
 | 
rbi-issues-new-limit-on-cash-holding

भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने हाल ही में सेविंग खातों में नकदी रखने की नई लिमिट तय की है, जो बैंक अकाउंटधारकों और विशेष रूप से सेविंग अकाउंट रखने वालों के लिए महत्वपूर्ण जानकारी है। यह कदम वित्तीय लेनदेन को और अधिक पारदर्शी और नियंत्रित बनाने के लिए उठाया गया है। बैंक खातों के माध्यम से होने वाले लेनदेन न केवल सुविधाजनक होते हैं बल्कि वित्तीय सुरक्षा और निगरानी के लिए भी आवश्यक होते हैं।

सेविंग खाते में नकदी रखने की लिमिट

RBI ने जो नई लिमिट निर्धारित की है, उसका उद्देश्य सेविंग खातों में अत्यधिक नकदी जमा करने की प्रवृत्ति को नियंत्रित करना है। यह लिमिट निवेश और सेविंग के स्वस्थ प्रवाह को प्रोत्साहित करती है और बेहिसाबी धन के जमाव पर लगाम लगाने का काम करती है। इस नई लिमिट के तहत सेविंग खाते में नकदी रखने की अधिकतम लिमिट और इसके नियमों का पालन करना अकाउंटधारकों के लिए अनिवार्य हो जाएगा।

सेविंग खाते पर टैक्स दायित्व

बैंक से प्राप्त ब्याज पर टैक्स लगाना भी एक महत्वपूर्ण पहलू है। अगर किसी वित्तीय वर्ष में बैंक जमा से प्राप्त ब्याज 10,000 रुपये से अधिक है, तो उस पर टैक्स लगेगा। हालांकि आयकर अधिनियम की धारा 80TTA के तहत कुछ रियायतें भी प्राप्त हो सकती हैं।

वित्तीय साक्षरता और नियोजन

सेविंग खातों का प्रबंधन करते समय वित्तीय साक्षरता और नियोजन अत्यंत महत्वपूर्ण होते हैं। नकदी रखने की लिमिट और कर दायित्वों की जानकारी रखना निवेशकों को अधिक सजग और संगठित बनाता है। इससे उन्हें अपने वित्तीय लक्ष्यों की ओर बढ़ने में मदद मिलती है।