home page

Prroperty Loan: अचानक से ज्यादा पैसों की जरुरत पड़ जाए तो प्रॉपर्टी लोन है बेस्ट ऑप्शन, कम ब्याज पर मिल जाएगा लोन और मिलेगी स्पेशल टैक्स छूट

Prroperty Loan: व्यक्तिगत वित्तीय आवश्यकताओं (Personal Financial Needs) की पूर्ति के लिए लोन एक महत्वपूर्ण संसाधन है।
 | 
 Loan against Property eligibility

Prroperty Loan: व्यक्तिगत वित्तीय आवश्यकताओं (Personal Financial Needs) की पूर्ति के लिए लोन एक महत्वपूर्ण संसाधन है। विशेषकर जब आपको अचानक बड़ी रकम की आवश्यकता हो, प्रॉपर्टी लोन (Loan Against Property) एक आकर्षक ऑप्शन बन जाता है। यह एक सेक्योर्ड लोन (Secured Loan) है, जिसे आप अपनी संपत्ति को गिरवी रखकर प्राप्त कर सकते हैं।

प्रॉपर्टी लोन की विशेषताएं

प्रॉपर्टी लोन का मुख्य आकर्षण इसकी कम ब्याज दर (Low Interest Rate) है, जो इसे पर्सनल लोन के मुकाबले अधिक व्यावहारिक बनाती है। बैंक और वित्तीय संस्थान (Financial Institutions) आपकी आय, क्रेडिट हिस्ट्री (Credit History) और प्रॉपर्टी की कीमत के आधार पर लोन की राशि तय करते हैं।

ब्याज दर की तुलना

विभिन्न बैंकों में प्रॉपर्टी लोन पर ब्याज दरों में अंतर होता है। उदाहरण के लिए स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (State Bank of India) 10.60% से 11.30% के बीच, जबकि एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank) और एक्सिस बैंक (Axis Bank) भिन्न-भिन्न दरों पर लोन प्रदान करते हैं। इसलिए लोन लेने से पहले ब्याज दरों की तुलना (Interest Rate Comparison) करना लाभदायक होता है।

प्रॉपर्टी लोन के फायदे

प्रॉपर्टी लोन से आपको अधिक लोन राशि मिल सकती है और आप इसे लंबी अवधि में आसान किस्तों (Easy Installments) में चुका सकते हैं। इसमें बैलेंस ट्रांसफर (Balance Transfer) की सुविधा भी होती है, जिससे आप कम ब्याज दर पर अपना लोन अन्य बैंक में स्थानांतरित कर सकते हैं।

टैक्स लाभ

प्रॉपर्टी लोन पर दिए गए ब्याज पर आपको आयकर अधिनियम (Income Tax Act) के तहत टैक्स छूट (Tax Benefit) भी मिलती है। यदि लोन राशि का उपयोग नए घर की खरीद के लिए किया जाता है, तो आपको लोन पर दिए गए ब्याज पर अधिकतम 2 लाख रुपये तक की छूट मिल सकती है।