ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने का काम अब हो जाएगा और भी आसान, प्राइवेट सेंटर से भी हो जाएगा ड्राइविंग टेस्ट

By Vikash Beniwal

Published on:

केंद्र सरकार ने ड्राइविंग लाइसेंस (Driving License) बनवाने की प्रक्रिया में अहम बदलाव कर दिया है। अगले महीने यानी एक जून 2024 से आप क्षेत्रीय परिवहन कार्यालयों (RTO) के साथ ही ड्राइविंग टेस्ट अपने नजदीकी प्राइवेट सेंटर या ड्राइविंग स्कूल में जाकर दे सकेंगे। इन सेंटर्स को ड्राइविंग टेस्ट लेने और ड्राइविंग सर्टिफिकेट जारी करने की परमिशन दी जाएगी। इस बदलाव की वजह से ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना आसान हो जाएगा।

ड्राइविंग लाइसेंस की मौजूदा प्रक्रिया

मौजूदा वक्त में ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने की प्रक्रिया काफी लंबी है। इसमें कागजी कार्रवाई भी ज्यादा करनी पड़ती है। कई सारे फॉर्म भरने होते हैं और कई दफ्तरों के चक्कर काटने पड़ते हैं। लंबी और जटिल प्रक्रिया के कारण, लाइसेंस आरटीओ ऑफिस में भ्रष्टाचार फैलता है। इसका असर पूरे देश की सड़क सुरक्षा पर पड़ता है। इसलिए, इन कमियों को दूर करने के लिए सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने भारत में मौजूदा ड्राइविंग नियमों में बड़े बदलाव करने की घोषणा की है।

प्राइवेट सेंटर के लिए नियम-शर्तें

प्राइवेट सेंटर और ड्राइविंग स्कूलों के लिए भी कुछ नियम और शर्तें निर्धारित की गई हैं। टू-व्हीलर की ट्रेनिंग के लिए ड्राइविंग स्कूल के पास कम से कम 1 एकड़ जमीन होनी चाहिए और फोर-व्हीलर के लिए 2 एकड़ जमीन। स्कूल में ही गाड़ी चलाने का टेस्ट देने की उचित व्यवस्था होनी चाहिए। स्कूल में गाड़ी चलाने की ट्रेनिंग देने वाले ट्रेनर को कम से कम हाईस्कूल पास होना चाहिए और 5 साल का गाड़ी चलाने का अनुभव होना चाहिए।

कम कागजी कार्रवाई

लाइसेंस बनवाने के लिए अब कम कागजी कार्रवाई करनी होगी। आवेदक को सिर्फ वही ज़रूरी दस्तावेज़ देने होंगे, जो लाइसेंस के प्रकार के हिसाब से बताए जाएंगे। परिवहन विभाग आवेदक को पहले ही बता देगा कि उसे कौन-से दस्तावेज़ उपलब्ध कराने हैं। इससे प्रक्रिया सरल और तेज हो जाएगी, और आवेदकों को बार-बार दस्तावेज़ों की जांच कराने की परेशानी से छुटकारा मिलेगा।

ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया

ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवेदन प्रक्रिया वही रहेगी। लाइसेंस बनवाने के लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन, दोनों तरीके से आवेदन किया जा सकता है। आवेदक सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय की ऑफिशियल वेबसाइट – https://parivahan.gov.in/ पर जाकर अपना आवेदन ऑनलाइन जमा कर सकते हैं। हालांकि आवेदन जमा करने के लिए संबंधित RTO भी जा सकते हैं। ऑनलाइन आवेदन करने से समय की बचत होती है और प्रक्रिया भी अधिक पारदर्शी हो जाती है।

ड्राइविंग लाइसेंस के फायदे

इस नए बदलाव से ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने की प्रक्रिया में कई फायदे होंगे। सबसे पहले, इससे भ्रष्टाचार पर रोक लगेगी और प्रक्रिया अधिक पारदर्शी होगी। दूसरे, इससे लोगों को लाइसेंस बनवाने में आसानी होगी और उन्हें लंबी कतारों में नहीं लगना पड़ेगा। तीसरे, प्राइवेट सेंटर और ड्राइविंग स्कूलों में टेस्ट देने से लोगों को अपने नजदीकी स्थान पर ही टेस्ट देने की सुविधा मिलेगी, जिससे समय और धन की बचत होगी।

सड़क सुरक्षा पर सकारात्मक प्रभाव

इस नए बदलाव का सड़क सुरक्षा पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। जब लाइसेंस बनवाने की प्रक्रिया सरल और पारदर्शी होगी, तो अधिक लोग सही तरीके से ड्राइविंग लाइसेंस बनवाएंगे। इससे सड़कों पर अनुशासन बढ़ेगा और दुर्घटनाओं में कमी आएगी। इसके अलावा, ड्राइविंग स्कूलों में सही तरीके से ट्रेनिंग देने से नए ड्राइवरों की कौशलता में भी सुधार होगा।

नए बदलाव से उम्मीदें

इस नए बदलाव से सरकार को उम्मीद है कि देश में ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने की प्रक्रिया में सुधार होगा और लोग आसानी से लाइसेंस बनवा सकेंगे। इससे न केवल भ्रष्टाचार पर रोक लगेगी बल्कि लोगों का समय और धन भी बचेगा। सरकार का यह कदम देश की सड़क सुरक्षा को बढ़ावा देने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है।

Vikash Beniwal

मेरा नाम विकास बैनीवाल है और मैं हरियाणा के सिरसा जिले का रहने वाला हूँ. मैं पिछले 4 सालों से डिजिटल मीडिया पर राइटर के तौर पर काम कर रहा हूं. मुझे लोकल खबरें और ट्रेंडिंग खबरों को लिखने का अच्छा अनुभव है. अपने अनुभव और ज्ञान के चलते मैं सभी बीट पर लेखन कार्य कर सकता हूँ.