home page

खेत में मजे से घूम रहे शख्स की जाग उठी किस्मत, जिन सिक्कों को मामूली समझा उन्ही से बना रातोंरात करोड़पति

आज हम आपको एक ऐसी कहानी (Story) सुनाने जा रहे हैं, जो आपको यकीन दिला देगी कि किस्मत कब किसका साथ दे दे, कहा नहीं जा सकता। 
 | 
khet me mila gada dhan

आज हम आपको एक ऐसी कहानी (Story) सुनाने जा रहे हैं, जो आपको यकीन दिला देगी कि किस्मत कब किसका साथ दे दे, कहा नहीं जा सकता। 'गड़ा धन' (Buried Treasure) एक ऐसी अवधारणा है, जिसे सुनकर हम में से अधिकांश की कल्पना रोमांचित हो उठती है।

प्राचीन काल में जब बैंक और तिजोरियां नहीं होती थीं, तब लोग अपनी कीमती धातुओं (Precious Metals) और सिक्कों (Coins) को जमीन में गाड़ दिया करते थे। यह कहानी है एक ऐसे शख्स की, जिसे अपने खेत में ऐसा ही 'गड़ा धन' मिला।

अचानक मिली किस्मत की चाबी

प्रॉस्पेक्टर (Prospector) जिसका शौक मेटल डिटेक्टिंग (Metal Detecting) था, ने एक दिन अपने खेत में दो असामान्य सिक्के खोज निकाले। शुरुआत में उसे लगा कि ये सामान्य सिक्के होंगे, लेकिन जब उसने इनकी जांच कराई तो पता चला कि इनकी कीमत उसकी सोच से भी ज्यादा है। यह घटना ने उसे रातों-रात अमीर (Rich Overnight) बना दिया।

खोज की गई अनमोल धरोहर

जब प्रॉस्पेक्टर ने इन सिक्कों को एक्सपर्ट्स (Experts) को दिखाया तो वे भी हैरान रह गए। एक सिक्का 1918 का स्टैंडिंग लिबर्टी क्वार्टर (Standing Liberty Quarter) था, जिस पर डेनवर का 'डी' मिंटमार्क (Denver's "D" Mintmark) नजर आया।

इसकी नीलामी (Auction) में यह सिक्का 15.74 लाख रुपये में बिका। वहीं, दूसरा सिक्का 1816 का एक मैट्रन हेड सेंट (Matron Head Cent) था, जिसकी नीलामी में कीमत 3.12 करोड़ रुपये तक पहुंच गई।

इतिहास के पन्नों से उभरता धन

इस खोज ने न केवल प्रॉस्पेक्टर की किस्मत बदल दी बल्कि यह भी दिखाया कि कैसे इतिहास (History) के पन्नों में छुपे हुए धन की खोज में आज भी असीम संभावनाएं (Infinite Possibilities) हैं। इसी तरह 1800 के दशक का एक फ्लाइंग ईगल सिक्का (Flying Eagle Cent) और 1921 का सेंट-गौडेंस डबल ईगल (Saint-Gaudens Double Eagle) भी बेहद महंगे दामों में बिके।