home page

Mahashivratri 2024: महाशिवरात्रि के दिन शिवलिंग पर गलती से मत चढ़ाना ये 5 चीजें, वरना भोलेनाथ भगवान हो जाएंगे नाराज

Mahashivratri 2024: महा शिवरात्रि हिन्दू धर्म के सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है, जिसे विश्व भर में सनातन धर्म के अनुयायी बड़े धूम धाम से मनाते हैं।
 | 
maha-shivratri-2024-do-not-offer-these-5-things

Mahashivratri 2024: महा शिवरात्रि हिन्दू धर्म के सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है, जिसे विश्व भर में सनातन धर्म के अनुयायी बड़े धूम धाम से मनाते हैं। इस दिन भगवान शिव की अराधना की जाती है, उन्हें प्रसन्न करने के लिए विशेष पूजा-अर्चना की जाती है और शिवलिंग पर विविध प्रकार की सामग्री चढ़ाई जाती है।

भगवान शिव को प्रिय और अप्रिय सामग्री

शिव पूजा में बेलपत्र, धतूरा, भांग और जल जैसी चीजें चढ़ाई जाती हैं, जो भगवान शिव को अत्यंत प्रिय हैं। हालांकि कुछ चीजें जैसे तुलसी, केतकी का फूल, नारियल का पानी, हल्दी और सिंदूर ऐसी हैं जिन्हें भगवान शिव को चढ़ाने से बचना चाहिए, क्योंकि ये उन्हें अप्रिय हैं या उनकी पूजा में उपयुक्त नहीं मानी जाती।

पूजा में वर्जित सामग्री के पीछे की कथाएं

तुलसी और केतकी के फूल को चढ़ाने की मनाही के पीछे धार्मिक कथाएं और मान्यताएं हैं। तुलसी, विष्णु भगवान की पत्नी मानी जाती हैं, इसलिए इसे शिव पूजा में वर्जित माना जाता है। केतकी के फूल को भगवान शिव ने झूठ बोलने के कारण श्रापित किया था। इसी तरह हल्दी और सिंदूर का उपयोग भी भगवान शिव की पूजा में नहीं किया जाता।

महा शिवरात्रि पर विशेष पूजा विधि

महा शिवरात्रि के दिन भक्त व्रत रखते हैं, शिवलिंग पर जलाभिषेक करते हैं और रात्रि जागरण करते हैं। पूजा में चढ़ाई जाने वाली सामग्री का चयन बहुत सावधानी से किया जाता है ताकि भगवान शिव को अप्रिय कुछ भी न चढ़ाया जाए। यह त्योहार भक्ति और आस्था का पर्व है, जिसमें भक्त अपने ईष्टदेव को प्रसन्न करने के लिए हर संभव प्रयास करते हैं।

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Dharataltv.Com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें।)