home page

Liquor Price Hike: तमिलनाडु के बाद इस राज्य ने बढ़ाई शराब की कीमतें, एक दो बोत्तल की जगह पूरी पेटी खरीदने में जुटे लोग

Liquor Price Hike: केरल सरकार ने हाल ही में एक बड़ा निर्णय लेते हुए शराब (Liquor) पर लगने वाली एक्साइज ड्यूटी (Excise Duty) में इजाफे की घोषणा की है।
 | 
 Liquor Production In Kerala

Liquor Price Hike: केरल सरकार ने हाल ही में एक बड़ा निर्णय लेते हुए शराब (Liquor) पर लगने वाली एक्साइज ड्यूटी (Excise Duty) में इजाफे की घोषणा की है। वित्त वर्ष 2024-25 के बजट (Kerala Budget 2024-25) में इस बढ़ोतरी का ऐलान किया गया, जिसके अनुसार अब शराब पीना केरल में महंगा पड़ेगा। इस निर्णय से शराब प्रेमियों को एक झटका लगा है।

बजट प्रस्तुति में वित्त मंत्री के बड़े ऐलान

वित्त मंत्री केएन बालगोपाल (KN Balagopal) ने विधानसभा में बजट प्रस्तुत करते हुए इस बढ़ोतरी की जानकारी दी। इस बढ़ोतरी के साथ सरकार का उद्देश्य स्टेट इकोनॉमी (State Economy) को मजबूती प्रदान करना और सरकारी रेवेन्यू (Government Revenue) में बढ़ोतरी करना है। भारत में निर्मित विदेशी शराब (IMFL) पर 10 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी के इस निर्णय से सरकार को अतिरिक्त राजस्व की प्राप्ति होने की उम्मीद है।

राजस्व में बढ़ोतरी की उम्मीद

इस नीति के तहत सरकार को अतिरिक्त रेवेन्यू (Additional Revenue) के रूप में 200 करोड़ रुपये की प्राप्ति होने की उम्मीद है। यह बढ़ोतरी निवेश (Investment) को आकर्षित करने और फाइनेंशियल ग्रोथ (Financial Growth) की रफ्तार बढ़ाने के लिए की गई है। इस कदम से केरल सरकार की आर्थिक स्थिरता में मजबूती आने की संभावना है।

सोशल सिक्योरिटी सेस का भी ऐलान

बढ़ोतरी के अलावा केरल सरकार ने IMFL पर सोशल सिक्योरिटी सेस (Kerala Social Security Cess) लगाने का भी ऐलान किया है। इसमें विभिन्न प्राइस लिमिट की शराब पर अलग-अलग रेट में सेस लगाया गया है, जिससे सामाजिक सुरक्षा फंड (Social Security Fund) में बढ़ोतरी होगी। यह कदम समाज के विभिन्न वर्गों की सुरक्षा और कल्याण के लिए उठाया गया है।

शराब उत्पादन बढ़ाने की दिशा में प्रयास

बजट में शराब की कीमतों में बढ़ोतरी के साथ-साथ केरल सरकार ने शराब उत्पादन (Liquor Production) को भी बढ़ावा देने के लिए कई योजनाएं बनाई हैं। इसमें बंद पड़ी शराब की भट्टियों को फिर से खोलना और मौजूदा शराब की क्षमता को बढ़ाना शामिल है। यह प्रयास न केवल राज्य में शराब उत्पादन को बढ़ाएगा बल्कि नई रोजगार संभावनाओं (Employment Opportunities) को भी जन्म देगा।