home page

Kisan Andolan 2024: परमिसन के बिना किसान आंदोलन या सभा में शामिल होने पर होगी बड़ी कार्रवाई, पुलिस को सरकार की तरफ से मिला ये आदेश

Kisan Andolan 2024:हरियाणा से आ रही ताजा खबरों के अनुसार पुलिस अधीक्षक अंबाला जशनदीप सिंह रंधावा ने स्पष्ट किया है कि बिना सरकार और प्रशासन की अनुमति के किसी भी
 | 
movement and meeting without the permission

Kisan Andolan 2024: हरियाणा से आ रही ताजा खबरों के अनुसार पुलिस अधीक्षक अंबाला जशनदीप सिंह रंधावा ने स्पष्ट किया है कि बिना सरकार और प्रशासन की अनुमति के किसी भी किसान आंदोलन या सभा में भाग लेने वाले व्यक्तियों के खिलाफ कठोर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। यह घोषणा ऐसी सूचनाओं के मद्देनजर की गई है कि 13 फरवरी को कुछ किसान संगठनों द्वारा आंदोलन में भाग लिया जा सकता है।

आंदोलन में भाग लेने की सख्त मनाही

अधिकारियों ने स्पष्ट किया है कि किसान आंदोलन (Farmers' Protest) में बिना अनुमति के भाग लेना सरकारी आदेशों की अवहेलना मानी जाएगी। इस तरह के किसी भी व्यक्ति या संगठन के खिलाफ कठोर कानूनी कदम उठाए जाएंगे।

सार्वजनिक संपत्ति की सुरक्षा पर जोर

इस दौरान आंदोलनकारियों द्वारा सरकारी संपत्ति (Public Property) और आमजन को नुकसान पहुँचाने की संभावना व्यक्त की गई है। पुलिस अधीक्षक ने कहा है कि सार्वजनिक संपत्ति के नुकसान के मामले में लोक संपत्ति नुकसान निवारण अधिनियम 1984 (Public Property Damage Prevention Act 1984) के संशोधन के अनुसार आंदोलनकारियों और उसे आह्वान करने वाले संगठनों को जिम्मेदार माना जाएगा।

हरियाणा लोक व्यवस्था अधिनियम के प्रावधान

आगे चलकर, हरियाणा लोक व्यवस्था में विघ्न के दौरान संपत्ति क्षति वसूली अधिनियम 2021 (Haryana Public Order Property Damage Recovery Act 2021) के अनुसार किसी भी सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों की संपत्ति कुर्क की जा सकती है और उनके बैंक खाते सीज किए जा सकते हैं।

अनुमति प्रक्रिया और शांति की अपील

हरियाणा पुलिस एक्ट 2007 (Haryana Police Act 2007) के तहत किसी भी सभा या जुलूस के लिए पुलिस थाने में लिखित में सूचना देनी होती है। अधिकारी कानूनी रूप से संतुष्ट होने पर ही इस तरह की गतिविधियों की अनुमति देंगे। यदि इससे शांति भंग की संभावना है, तो पुलिस अधिकारी लोकहित में इस पर रोक लगा सकते हैं।