home page

खट्टर सरकार बढ़ाने वाली है बुजुर्गों की पेंशन, जाने कब और कितनी बढ़ेगी पेंशन

हरियाणा राज्य सरकार किसी भी समय राज्य के वरिष्ठ नागरिकों को बढ़ी हुई पेंशन का लाभ दे सकती है
 | 
n-haryana-the-elderly-are-going-to-have-fun;-cm-khattar

हरियाणा राज्य सरकार किसी भी समय राज्य के वरिष्ठ नागरिकों को बढ़ी हुई पेंशन का लाभ दे सकती है। राज्य वृद्धावस्था पेंशन को वर्तमान में 2,750 रुपये प्रति माह देता है, लेकिन इसे 3,000 रुपये प्रति माह करना होगा। CM खट्टर ने पहले ही इसका संकेत दिया है। विधानसभा के मानसून सत्र के दौरान मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बुजुर्गों को मासिक 3000 रुपये की पेंशन देने की घोषणा की। प्रदेश भर के बुजुर्गों पर इस समय कड़ी निगरानी रखी जा रही है, और वे अब पेंशन में बढ़ोतरी की प्रतीक्षा कर रहे हैं।

हरियाणा में बुढ़ापे की पेंशन एक राजनीतिक मुद्दा 

1 अप्रैल 2023 से राज्य में बुजुर्गों को 2750 रुपये मासिक पेंशन मिलेगा। राज्य में वृद्धावस्था पेंशन एक राजनीतिक मुद्दा है। बीजेपी ने चुनावी घोषणापत्र में 3100 रुपये पेंशन देने का वादा किया था, जो पांच साल के अंदर पूरा होने जा रहा है। भाजपा के एक सहयोगी ने 5,000 रुपये की मासिक पेंशन की घोषणा की थी, लेकिन तब वह चुनाव नहीं लड़ा था। कांग्रेस ने 2024 के चुनावों के लिए 6,000 रुपये और INEC ने 7,500 रुपये की मासिक पेंशन की घोषणा की है।

JJP प्रति माह 5500 रुपये की मासिक पेंशन देने का वादा 

बीजेपी की सहयोगी पार्टी जेजेपी ने भी किसानों को 5,500 रुपये प्रति माह पेंशन देने का वादा किया है। सुदेश कटारिया ने कहा कि सरकार 2019 चुनाव में किए गए वादों को पूरा करने के करीब है। बीजेपी संगठन और सरकार मिलकर अगला वादा बनाएंगे और इसका उल्लेख अपने चुनावी घोषणापत्र में करेंगे।

3 लाख सालाना आय वालों को भी पेंशन मिलेगी

राज्य की खट्टर सरकार ने पहले ही बुजुर्गों को महत्वपूर्ण राहत दी है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की सरकार ने वृद्धावस्था पेंशन पाने के लिए एक लाख रुपये की आय सीमा बढ़ा दी है। पहले, पेंशन केवल दो लाख रुपये सालाना आय वाले बुजुर्गों को मिलती थी। इस सीमा को अब ३ लाख रुपये कर दिया गया है। सरकार ने इस बारे में सूचना दी है।

भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता ने क्या कहा?

भाजपा प्रवक्ता सुदेश कटारिया ने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल ऐसी घोषणाएं करते हैं जो वित्तीय या तकनीकी बाधाओं के बिना पूरी हो सकती हैं। इसलिए जनहित में जमीन पर काम करना बेहतर है।

गरीब परिवारों के लिए वृद्धावस्था पेंशन

हरियाणा में लाखों परिवार हैं जो पेंशन के पैसे पर निर्भर हैं। ऐसे सैकड़ों लोग अपने बच्चों से दूर रहते हैं। ऐसे लोगों को आय का कोई दूसरा स्रोत नहीं होता। पति-पत्नी को मासिक 5,500 रुपये की पेंशन मिल रही है, जो एक गरीब परिवार को चलाने के लिए पर्याप्त है।