home page

भारत का अनोखा गांव जहां नही चलता देश का कानून, आज भी टेक्नोलॉजी के बिना जीते है यहां के लोग

भारत में अनेकों विविधताओं और अद्भुत संस्कृतियों (Culture) के बीच हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के कुल्लू जिले में स्थित मलाणा गांव अपनी अनोखी परंपराओं और व्यवस्थाओं के लिए जाना जाता है।
 | 
This village of India has its own constitution

भारत में अनेकों विविधताओं और अद्भुत संस्कृतियों (Culture) के बीच हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के कुल्लू जिले में स्थित मलाणा गांव अपनी अनोखी परंपराओं और व्यवस्थाओं के लिए जाना जाता है। यह गांव अपने आप में एक अलग दुनिया है, जहां भारतीय संविधान (Indian Constitution) के बजाय गांव का अपना संविधान चलता है।

हिमाचल की गौरवशाली विरासत

मलाणा, हिमाचल प्रदेश के दुर्गम इलाके में स्थित एक गांव है, जिसे पहुंचने के लिए कुल्लू से 45 किलोमीटर (Kilometers) की दूरी तय करनी पड़ती है। यहां आने के लिए मणिकर्ण रूट (Route) से कसोल होते हुए मलाणा हाइड्रोइलेक्ट्रिक प्लांट के रास्ते जाया जा सकता है। इस गांव की पहुंच आसान नहीं है और हिमाचल परिवहन (Himachal Transport) की सिर्फ एक बस ही यहां जाती है।

अपनी न्यायपालिका और व्यवस्थापिका के साथ मलाणा

भारतीय गणराज्य का हिस्सा होते हुए भी मलाणा की अपनी न्यायपालिका (Judiciary), व्यवस्थापिका (Legislature) और कार्यपालिका (Executive) है। गांव में दो सदनों वाली अपनी संसद (Parliament) है, जिसमें ज्योष्ठांग (Upper House) और कनिष्ठांग (Lower House) शामिल हैं। यहां की संसद भवन के रूप में एक ऐतिहासिक चौपाल (Historical Chaupal) है, जहां सभी महत्वपूर्ण निर्णय और विवादों के फैसले होते हैं।

मलाणा के अनूठे नियम और संस्कृति

मलाणा के निवासी कनाशी नामक एक अनोखी भाषा (Unique Language) बोलते हैं, जिसे वे पवित्र मानते हैं और जो केवल मलाणा में ही बोली जाती है। गांव में बाहरी लोगों के लिए कई प्रतिबंध (Restrictions) हैं, जैसे कि गांव की दीवार को छूना मना है और उन्हें गांव के बाहर ही ठहरना होता है। ये नियम गांव की पवित्रता (Sanctity) और स्वायत्तता (Autonomy) को बनाए रखने में मदद करते हैं।

एक रहस्यमयी संस्कृति का घर

एएफपी हरकोर्ट जैसे यात्रियों ने मलाणा की संस्कृति और इतिहास (Culture and History) के बारे में विस्तार से लिखा है। उनके अनुसार मलाणा के लोग अपनी परंपराओं और रीति-रिवाजों (Traditions and Customs) का कठोरता से पालन करते हैं। यहां के निवासी अपने आप को बाहरी दुनिया से अलग रखते हैं और अपनी अनूठी लाइफस्टाइल (Unique Lifestyle) को बनाए रखते हैं।