home page

भारत का एकमात्र ऐसा रेल्वे स्टेशन जहां दो जिलों में खड़ी होती है ट्रेन, इस राज्य में है ये अनोखा रेल्वे स्टेशन

भारतीय रेलवे (Indian Railways) जो दुनिया के सबसे बड़े रेल नेटवर्क (Rail Network) में चौथे स्थान पर है, अपनी विशालता और खूबियों के लिए प्रसिद्ध है।
 | 
railway-station-trains-stand-in-two-districts

भारतीय रेलवे (Indian Railways) जो दुनिया के सबसे बड़े रेल नेटवर्क (Rail Network) में चौथे स्थान पर है, अपनी विशालता और खूबियों के लिए प्रसिद्ध है। इस विशाल नेटवर्क में अनेक रोचक और अनोखी जगहें हैं, जिनमें से एक है कंचौसी रेलवे स्टेशन (Kanchausi Railway Station)। यह स्टेशन उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के दो जिलों कानपुर देहात (Kanpur Dehat) और औरैया (Auraiya) के बीच में स्थित है, जो इसे एक यूनिक स्थान बनाता है।

दो जिलों के बीच स्थित एक अनोखा स्टेशन

कंचौसी रेलवे स्टेशन की सबसे बड़ी खासियत (Unique Feature) यह है कि यह स्टेशन दो अलग-अलग जिलों में बंटा हुआ है। एक तरफ इसका आधा हिस्सा कानपुर देहात में पड़ता है, जबकि दूसरा हिस्सा औरैया जिले में आता है। इस विशेषता के कारण यह स्टेशन रेलवे यात्रियों (Railway Passengers) के लिए एक रोचक और जनरल नोलेज के लिए भी खास स्थान बन जाता है।

एक्सप्रेस ट्रेनों का स्टॉपेज

हाल के वर्षों में कंचौसी स्टेशन पर यात्री सुविधाओं (Passenger Facilities) में बढ़ोतरी हुई है। पहले यहां केवल पैसेंजर ट्रेनें ही रुकती थीं, लेकिन अब फरक्का एक्सप्रेस (Farakka Express) जैसी एक्सप्रेस ट्रेनों का भी स्टॉपेज है, जिससे स्थानीय निवासियों (Local Residents) और यात्रियों को बड़ी सहूलियत हुई है। इससे न केवल कानपुर देहात और औरैया के लोगों के लिए यात्रा सुगम हुई है, बल्कि पर्यटकों (Tourists) के लिए भी यह एक रोचक गंतव्य बन गया है।

कानपुर देहात और औरैया

कंचौसी रेलवे स्टेशन का यह अनूठा स्थान न केवल दो जिलों के भौगोलिक विभाजन (Geographical Division) को दर्शाता है, बल्कि यहां आने वाले यात्रियों को इन दोनों जिलों की सांस्कृतिक विविधता (Cultural Diversity) और समृद्धि से भी परिचित कराता है। इस स्टेशन पर उतरने वाले यात्री न केवल दो जिलों की भौगोलिक विशेषताओं का अनुभव कर सकते हैं, बल्कि उनके इतिहास, संस्कृति और लोगों के बारे में भी जान सकते हैं।