home page

Indian Railways Rules: ट्रेन में कितने साल तक के बच्चे का नही लगता कोई टिकट, इतने साल की उम्र होने के बाद टिकट लेना हो जाता है जरुरी

Indian Railways Rules: भारतीय रेलवे (Indian Railways) के माध्यम से यात्रा करना न केवल सुविधाजनक होता है बल्कि यह एक आर्थिक और सुरक्षित यात्रा का भी विकल्प प्रदान करता है।
 | 
railway ticket rules for child in hindi

Indian Railways Rules: भारतीय रेलवे (Indian Railways) के माध्यम से यात्रा करना न केवल सुविधाजनक होता है बल्कि यह एक आर्थिक और सुरक्षित यात्रा का भी विकल्प प्रदान करता है। यात्री ट्रेनों (Passenger Trains) का व्यापक नेटवर्क देश के कोने-कोने को जोड़ता है.

जिससे यात्रियों को अपने गंतव्य तक पहुंचने में आसानी होती है। लेकिन जब बात बच्चों के साथ यात्रा करने की आती है, तो भारतीय रेलवे ने कुछ विशेष नियम बनाए हैं जिन्हें जानना हर अभिभावक के लिए जरूरी है।

मुफ्त यात्रा का प्रावधान

भारतीय रेलवे के अनुसार वे बच्चे जिनकी उम्र एक से चार साल (1-4 Years) के बीच होती है, उन्हें ट्रेन में मुफ्त यात्रा (Free Travel) की सुविधा प्रदान की जाती है। इस उम्र के बच्चों के लिए न तो कोई टिकट आवश्यक होता है और न ही उनके लिए किसी प्रकार का रिजर्वेशन (Reservation) कराने की जरूरत होती है। यह नियम उन अभिभावकों के लिए विशेष रूप से लाभकारी है जो छोटे बच्चों के साथ यात्रा करना चाहते हैं।

हाफ टिकट की सुविधा

जब बच्चे की उम्र 5 से 12 साल (5-12 Years) के बीच होती है तो उनके लिए ट्रेन टिकट (Train Ticket) लेना अनिवार्य हो जाता है। लेकिन, रेलवे ने इस उम्र के बच्चों के लिए हाफ टिकट (Half Ticket) की सुविधा प्रदान की है, बशर्ते उन्हें अलग से सीट की आवश्यकता न हो। यह सुविधा उन अभिभावकों के लिए आर्थिक रूप से मददगार है जो अपने बच्चों को साथ लेकर यात्रा करते हैं।

पूर्ण टिकट की आवश्यकता

अगर अभिभावक अपने बच्चे के लिए बर्थ या सीट (Berth or Seat) आरक्षित करना चाहते हैं, तो उन्हें 5 से 12 साल के बच्चे के लिए पूरा टिकट (Full Ticket) खरीदना होगा और पूरा किराया (Full Fare) देना होगा। यह नियम उन बच्चों के लिए लागू होता है जिनके लिए यात्रा के दौरान एक अलग सीट या बर्थ की आवश्यकता होती है।