home page

Indian Railway: ट्रेन के डिब्बे में लगे चार्जिंग प्वाइंट में ये चीजें भूलकर भी मत लगाना, वरना हो सकती है कई महीनों की जेल

Indian Railway: ट्रेन यात्राओं में आजकल मोबाइल, लैपटॉप जैसे इलेक्ट्रॉनिक सामानों (Electronic Gadgets) का उपयोग आम बात है।
 | 
is it a crime to use anything

Indian Railway: ट्रेन यात्राओं में आजकल मोबाइल, लैपटॉप जैसे इलेक्ट्रॉनिक सामानों (Electronic Gadgets) का उपयोग आम बात है। लेकिन क्या आपको पता है कि ट्रेन में इनके अतिरिक्त अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का उपयोग कितना खतरनाक हो सकता है? आइए इस विषय में विस्तार से जानते हैं।

ट्रेन में चार्जिंग की सीमाएं

ट्रेनों में प्रदान की जाने वाली 110 वोल्ट डी.सी. (DC Voltage) बिजली विशेष रूप से मोबाइल और लैपटॉप चार्जिंग के लिए होती है। इस वोल्टेज पर अन्य उपकरणों जैसे हिटर, हेयर ड्रायर आदि का उपयोग न केवल उपकरण के खराब होने का जोखिम बढ़ाता है बल्कि यह अत्यधिक खतरनाक भी हो सकता है।

जोखिम और खतरे

ज्यादा वोल्टेज के उपकरणों को चार्ज करने से शार्ट सर्किट (Short Circuit) और आग लगने (Fire Hazard) की संभावना बढ़ जाती है, जो यात्रियों की जान के लिए गंभीर खतरा उत्पन्न कर सकती है। इसलिए रेलवे ने रात के समय ट्रेन में मोबाइल और लैपटॉप चार्ज करने पर भी प्रतिबंध लगाया है।

कानूनी प्रावधान और सजा

147 रेलवे एक्ट (Railway Act) के अंतर्गत यदि कोई व्यक्ति प्रतिबंधित क्षेत्र में प्रवेश करता है या अनाधिकृत रूप से किसी भी प्रकार का उपकरण चार्ज करता है, तो उसे जुर्माने के साथ-साथ 6 महीने या उससे अधिक की जेल की सजा हो सकती है। यह धारा यात्रियों की सुरक्षा को सुनिश्चित करती है और अनाधिकृत गतिविधियों को रोकने का प्रयास करती है।

सुरक्षित यात्रा के लिए सुझाव

  1. ट्रेन में केवल मोबाइल और लैपटॉप जैसे अधिकृत उपकरणों को ही चार्ज करें।
  2. उच्च वोल्टेज वाले उपकरणों का उपयोग न करें जो शार्ट सर्किट का कारण बन सकते हैं।
  3. यात्रा के दौरान रेलवे के नियमों और निर्देशों का पालन करें।