home page

भारत में इन जगहों पर लड़कियां को शादी से पहले प्रेग्नेंट होना है जरुरी, अगर पार्टनर पसंद नही आए तो दूसरे लड़के से बना सकती है संबंध

भारतीय समाज में लिव-इन रिलेशनशिप (Live-in Relationship) को लेकर अक्सर विवाद और चर्चा होती रहती है।
 | 
swayamvara-is-practiced-in-these-villages-girl

भारतीय समाज में लिव-इन रिलेशनशिप (Live-in Relationship) को लेकर अक्सर विवाद और चर्चा होती रहती है। कई धार्मिक और सामाजिक संगठन इसके पक्ष और विरोध में तर्क देते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि भारत के कुछ राज्यों में ऐसे गांव हैं जहां लिव-इन रिलेशनशिप न केवल स्वीकार किया जाता  है बल्कि एक पारंपरिक प्रथा (Traditional Practice) के रूप में देखी जाती है?

स्वयंवर और लिव-इन का अनोखा कॉम्बिनेशन

खासतौर पर राजस्थान के उदयपुर, सिरोही, पाली जिलों और गुजरात के पहाड़ी इलाकों में गरासिया जनजाति (Garasia Tribe) के लोग इस प्रथा को बड़े गर्व के साथ निभाते हैं। यहाँ की लड़कियां स्वयंवर (Swayamvar) करती हैं, जिसके लिए वे पहले अपनी पसंद के पुरुष के साथ लिव-इन में रहती हैं। इस प्रथा के अनुसार यदि वर्तमान पार्टनर पसंद नहीं आता, तो वे मर्जी के अनुसार दूसरे पुरुष से शादी करने के लिए स्वतंत्र होती हैं।

आधुनिक बनाम पारंपरिक लिव-इन

जब शहरी इलाकों में लिव-इन रिलेशनशिप आधुनिकता (Modernity) का प्रतीक माना जाता है, वहीं गरासिया जनजाति में यह प्रथा काफी समय से चली आ रही है। इसे आदिवासी संस्कृति (Tribal Culture) का एक अभिन्न हिस्सा माना जाता है। इस समुदाय में महिलाओं को न सिर्फ अपने लाइफ पार्टनर को चुनने की आजादी है बल्कि वे मातृत्व (Motherhood) की भूमिका में भी आ सकती हैं।

शादी का दबाव नहीं

इस जनजाति में शादी का कोई दबाव (No Pressure to Marry) नहीं होता है। शादी का कार्यक्रम दो दिन तक चलता है जिसमें युवा एक-दूसरे के साथ समय बिताने के बाद निर्णय लेते हैं। इस दौरान वे बिना किसी औपचारिक विवाह (Formal Marriage) के एक-दूसरे के साथ रह सकते हैं। गांव लौटने पर माता-पिता यदि चाहें तो धूमधाम से उनकी शादी करवा सकते हैं।

सामाजिक स्वीकृति और आजादी

गरासिया जनजाति में यह प्रथा न केवल महिलाओं को अपनी पसंद के साथी को चुनने की आजादी देती है बल्कि सामाजिक स्वीकृति (Social Acceptance) और व्यक्तिगत आजादी (Personal Freedom) का भी प्रतीक है। इससे यह संदेश जाता है कि प्रेम और संबंधों को समझने के लिए समाज को अधिक खुले विचारों की आवश्यकता है।