home page

भारत में इस रूट पर चलने वाली ट्रेन में बिना टिकट कर सकते है सफर, पिछले 75 सालों से लोग करते आ रहे है मुफ्त यात्रा

भारतीय रेलवे (Indian Railways) की इस अनोखी दुनिया में भांगड़ा-नंगल ट्रेन की बेहद खास जगह है, जो पंजाब (Punjab) और हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) की सीमा पर एक ऐतिहासिक और महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है।
 | 
भारत में इस रूट पर चलने वाली ट्रेन में बिना टिकट कर सकते है सफर

भारतीय रेलवे (Indian Railways) की इस अनोखी दुनिया में भांगड़ा-नंगल ट्रेन की बेहद खास जगह है, जो पंजाब (Punjab) और हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) की सीमा पर एक ऐतिहासिक और महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। यह ट्रेन न केवल यात्रियों को उनकी मंजिल तक पहुंचाने का काम करती है, बल्कि इसका अस्तित्व भी एक दिलचस्प कहानी कहता है।

बिना टिकट कर सकते है सफर

भांगड़ा-नंगल ट्रेन जो भाखड़ा ब्यास मैनेजमेंट बोर्ड (Bhakra Beas Management Board) द्वारा संचालित होती है, एक विशेष सेवा प्रदान करती है जो इसे अन्य ट्रेनों से अलग बनाती है। यह ट्रेन अपने यात्रियों को बिना किसी शुल्क के सफर करने का मौका देती है, जिससे यह न केवल एक सुविधाजनक बल्कि एक आर्थिक रूप से भी सबकी पसंदीदा बन जाती है।

ऐतिहासिक पृष्ठभूमि और उद्देश्य

इस ट्रेन का संचालन 1948 में शुरू हुआ उस समय जब भाखड़ा-नंगल बांध (Bhakra Nangal Dam) का निर्माण चल रहा था। निर्माण स्थल पर भारी मशीनरी और सामग्री की आवश्यकता को पूरा करने के लिए इस ट्रेन को चलाया जाना आवश्यक था। यह ट्रेन नंगल और भाखड़ा के बीच की दूरी को कवर करती है, जिससे इस दूरी को तय करने में आसानी होती है।

यात्रियों की बढ़ती संख्या और लोकप्रियता

शुरू में इस ट्रेन में यात्रियों की संख्या सीमित थी, लेकिन समय के साथ इसकी लोकप्रियता बढ़ती गई। आज रोजाना 800 से अधिक लोग इस ट्रेन का उपयोग करते हैं, जो इसकी सेवाओं और सुविधा की क्वालिटी को दर्शाता है।

शिवालिक पहाड़ियों के माध्यम से एक अनोखी यात्रा

भांगड़ा-नंगल ट्रेन की यात्रा शिवालिक पहाड़ियों (Shivalik Hills) के माध्यम से होती है, जो यात्रियों को न केवल एक सुखद यात्रा अनुभव प्रदान करती है, बल्कि उन्हें प्राकृतिक सौंदर्य (Natural Beauty) और शांति का अनुभव भी कराती है। इस यात्रा के दौरान यात्री उन दृश्यों का आनंद ले सकते हैं जो उन्हें शहरी जीवन की भागदौड़ से दूर ले जाते हैं।