home page

भारत के मुकाबले पाकिस्तान में कितनी कमाई पर देना पड़ता है टैक्स, 1 लाख रुपए रुपए पर कितना बनता है टैक्स

पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था के बारे में सभी लोग जानते हैं कि पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था लगातार घटती जा रही है और पाकिस्तान बहुत ही बड़े आर्थिक संकट में फस गया है.
 | 
income tax is levied on how much income in pakistan

पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था के बारे में सभी लोग जानते हैं कि पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था लगातार घटती जा रही है और पाकिस्तान बहुत ही बड़े आर्थिक संकट में फस गया है. इसका असर पाकिस्तान के नागरिकों पर देखा जा सकता है.

जहां नागरिक लगातार महंगाई की मार झेल रहे हैं और सभी चीज बहुत अधिक महंगी होने के कारण अपनी आवश्यकता की जरूरी वस्तुओं को भी नहीं जुटा पा रहे हैं. क्या आप जानते हैं कि आखिर पाकिस्तान अपने नागरिकों से कितना टैक्स वसूलता है तो चलिए आज इसके बारे में जानते हैं.

वेतनभोगी लोगों पर टैक्स

पाकिस्तान में वेतन भोगी और नॉन वेतन भोगी लोगों पर अलग-अलग तरह से टैक्स लगाया जाता है. पाकिस्तान में यदि कोई व्यक्ति ₹6 लाख सालाना कमाता है तो उसे कोई भी टैक्स नहीं देना पड़ता. वही 6 लाख से 12 लाख रुपए सालाना कमाने वाले व्यक्ति को 2.5 फीसदी टैक्स के रूप में देने पड़ते हैं.

12 लाख से 24 लाख पर 12.5 फिसदी टैक्स, 24 से 36 लाख पर 20 फीसदी टैक्स, 36 से 7 लाख तक 25 फीसदी, 60 लाख से 1.2 करोड़ तक 32.5 फ़ीसदी टैक्स और 1.2 करोड़ से ज्यादा इनकम होने पर 35 फीसदी टैक्स सरकार द्वारा वसूला जाता है.

कर्ज में डूबा है पाकिस्तान

आपको बता दे कि पिछले कुछ वर्षों से पाकिस्तान पर कर्ज बढ़ता ही जा रहा है. 2022 में पाकिस्तान पर 36.9 फीसदी कर्ज था जो 2023 में बढ़कर 38.3 प्रतिशत हो गया. वहीं यदि बात करें कुल सार्वजनिक ऋण की तो पाकिस्तान पर जून 2023 के अंत तक 49.2 ट्रिलियन रुपए का खर्च था जो अब बढ़कर 62.88 ट्रिलियन हो गया है. इतने कर्ज के पश्चात भी पाकिस्तान अब आईएमएफ से कर्ज लेने की तैयारी कर रहा है.

इन देशों ने लिया आईएमएफ से कर्ज

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष द्वारा दुनिया के कई देशों को कर्ज दिया जाता है. 31 मार्च 2023 तक के आंकड़ों के अनुसार कर्ज लेने में सबसे पहला नंबर अर्जेंटीना का है, जिसने अब तक 46 अरब डॉलर का कर्ज़ लिया हुआ है. वहीं दूसरे नंबर पर 18 अरब डॉलर का मिस्र देश पर है

और तीसरे नंबर पर यूक्रेन का नाम आता है जिसने 12.2 अरब डॉलर का कर्ज लिया है. चौथे नंबर पर इक्वाडोर का नंबर आता है जिसने 8.2 अरब डॉलर का कर्ज लिया हुआ है. यदि आईएमएफ पाकिस्तान को तीन अरब डॉलर का कर्ज और दे देता है तो पाकिस्तान पर कुल कर्ज  10.4 अरब डॉलर का हो जाएगा.