home page

एक राज्य से दूसरे राज्यों में कितनी शराब ले जाने की है परमिसन, जाने राज्यों के हिसाब से घर में शराब रखने की लिमिट

भारत में शराब को लेकर राज्यों के अपने-अपने कानून (State Laws) हैं। कुछ राज्यों जैसे गुजरात और बिहार में शराब पर पूर्ण प्रतिबंध (Complete Ban) है,
 | 
Act as a expert journalist writer (expertise- writing breaking news, sports news, other editorial news in hindi), write a well structured content in hindi on given topic, it should be plagarism free and easy human language. please write suitable sub title for each paragraph and write best keywords in each paragraph in brackets after hindi words .  Use the title reference:  " पिछले दिनों रेल हादसे की खबर तेजी से सामने आ रही थी. जिसको लेकर कई लोगों के मन में कई तरह के सवाल उठ रहे थे कुछ लोगों ने यहां तक सोच लिया था कि किसी ने रेलवे पटरी पर कोई ऐसी चीज रखी थी.  जिसकी वजह से ट्रेन पलट गई और इतना बड़ा हादसा हो गया. हालांकि, काफी लोगों के मन में यह सवाल उठता है कि अगर ट्रेन की पटरी पर₹1 का सिक्का रख दे तो क्या ट्रेन पलट जाएगी? अगर आपके मन में भी इसी तरह का सवाल है तो आज हम आपके इस सवाल का जवाब लेकर आए हैं, आईए जानते हैं..        दरअसल, रेल हादसा कई कर्म से होता है कई बार कोई ऐसी धातु रखी रहती है. जिसकी वजह से ट्रेन पटरी से उतर जाती है तो कई बार अचानक इमरजेंसी ब्रेक लगाने के बाद ट्रेन पटरी छोड़ देती है. जिसकी वजह से इतना बड़ा हादसा हो जाता है हादसे के पीछे कई बड़े वजह होते हैं.       क्या होगा अगर रख दें सिक्का ?  रही बात अगर पटरी पर सिक्का रख दें तो क्या होगा तो एक्सपर्ट की राय के मुताबिक ऐसा होना संभव नहीं होता है. लेकिन वही अगर साइंस की नजर से देखे तो इसमें मास और मोमेंटम के सिद्धांत का खेल नजर आता है. जिसमें बताया गया है कि सिक्का एक जगह रखा रहता है और ट्रेन तेजी से आगे बढ़ती आती है. इसमें ट्रेन का वजन टन भर होता है लेकिन सिक्के का वजन केवल 10 ग्राम का होता है. यही वजह है कि कोई फर्क नहीं पड़ता है.     "  Remember that, content should be not less than 500 words, do not use tough hindi words and follow a flow to give best reading experience to users. Also use some best keywords in english which are in () between content.

भारत में शराब को लेकर राज्यों के अपने-अपने कानून (State Laws) हैं। कुछ राज्यों जैसे गुजरात और बिहार में शराब पर पूर्ण प्रतिबंध (Complete Ban) है, जबकि अन्य राज्यों में इसके उपयोग पर विभिन्न प्रतिबंध और नियम लागू होते हैं। इस आर्टिकल में हम कई परिवहन माध्यमों में शराब ले जाने के नियमों पर प्रकाश डालेंगे।

ट्रेन में शराब परिवहन के नियम

रेलवे के नियम (Railway Rules) के अनुसार ट्रेन में शराब ले जाना पूर्णतः निषेध है। यदि कोई यात्री शराब पीते या शराब की बोतल ले जाते हुए पकड़ा जाता है, तो उसे रेलवे एक्ट 1989 की धारा 145 के अनुसार छह महीने की जेल या 500 रुपये के जुर्माने (Fine) का सामना करना पड़ सकता है।

कार में शराब ले जाने की लिमिट

कार से यात्रा (Car Travel) करते समय शराब ले जाने के नियम राज्य के अनुसार भिन्न होते हैं। शराबबंदी वाले राज्यों में एक भी बोतल शराब ले जाना प्रतिबंधित है। वहीं अन्य राज्यों में आमतौर पर एक लीटर तक शराब (Alcohol Limit) ले जाने की अनुमति होती है। लेकिन अगर कोई फ़िक्स लिमिट से अधिक शराब ले जाता है तो उसे पांच साल की जेल या 5000 रुपये तक के जुर्माने का सामना करना पड़ सकता है।

विमान में शराब परिवहन की शर्तें

फ्लाइट में शराब (Flight Alcohol Rules) ले जाने की शर्तें अधिक लचीली होती हैं। एक यात्री चेक-इन बैगेज के साथ 5 लीटर तक शराब ले जा सकता है, बशर्ते अल्कोहल की मात्रा 70% से कम हो। हैंडबैग में 100 एमएल तक शराब ले जाने की भी अनुमति होती है. लेकिन यह केवल इंटरनेशनल फ्लाइट्स के लिए लागू होता है।

दिल्ली मेट्रो में शराब परिवहन का नियम

दिल्ली मेट्रो (Delhi Metro) में एक यात्री दो सीलबंद बोतल शराब अपने साथ ले जा सकता है, लेकिन यह सुविधा केवल एयरपोर्ट लाइन पर ही उपलब्ध है। इसके अलावा मेट्रो परिसर में शराब पीना पूर्णतः प्रतिबंधित है।

घर में शराब रखने की लिमिट

घर पर शराब रखने की लिमिट (Home Alcohol Limit) भारत के विभिन्न राज्यों में अलग-अलग है। उदाहरण के लिए दिल्ली में 18 लीटर, उत्तर प्रदेश में 750 एमएल की चार बोतल और हरियाणा में देशी शराब की 6 और विदेशी शराब की 18 बोतल तक रखने की अनुमति है। यह लिमिट नियमों के अनुसार निर्धारित की गई है और इससे अधिक रखने पर जुर्माने और दंड का प्रावधान है।