home page

स्विच बोर्ड पर दिनरात जलने वाली लाल बत्ती कितनी बिजली खाती है, एक महीने का खर्चा जानकर तो आप भी हटवा देंगे ये बत्ती

बिजली का बिल कम करने की कोशिश में लोग अक्सर घर के बड़े उपकरणों पर ध्यान देते हैं, लेकिन छोटी-छोटी चीजों की ओर ध्यान नहीं देते जिनसे भी बिजली की खपत (Electricity Consumption) होती है।
 | 
wattage power of indicator bulb

बिजली का बिल कम करने की कोशिश में लोग अक्सर घर के बड़े उपकरणों पर ध्यान देते हैं, लेकिन छोटी-छोटी चीजों की ओर ध्यान नहीं देते जिनसे भी बिजली की खपत (Electricity Consumption) होती है। ऐसी ही एक चीज है स्विचबोर्ड पर लगा इंडिकेटर (Switchboard Indicator), जो हमें घर में बिजली की मौजूदगी का संकेत देता है।

स्विचबोर्ड इंडिकेटर की भूमिका और खपत

भारत में सप्लाई वोल्टेज (Supply Voltage) 230-240 वोल्ट है, जिस पर एक इंडिकेटर की खपत लगभग 0.3 से 0.5 वाट प्रति घंटा होती है। यह खपत प्रतीत होने वाली से अधिक हो सकती है, खासकर जब घर में कई इंडिकेटर लगे हों और वे 24 घंटे जलते रहते हों।

इंडिकेटर का महत्व और उपयोगिता

इंडिकेटर न केवल बिजली के आने-जाने का संकेत देते हैं बल्कि आंधी-तूफान (Storm) जैसी स्थितियों में भी बिजली उपकरणों को बचाने में सहायक होते हैं। इनकी मदद से आप बिजली आने पर अन्य उपकरणों को सुरक्षित रूप से चालू कर सकते हैं और वोल्टेज में बदलाव की स्थिति में भी सावधान हो सकते हैं।

बिजली बिल में कमी लाने के लिए सुझाव

स्विचबोर्ड इंडिकेटर्स का सही इस्तेमाल करके बिजली बिल (Electricity Bill) में कमी लाई जा सकती है। जब आपके घर में बिजली न हो तो इन्वर्टर से जुड़े स्विचबोर्ड्स के इंडिकेटर्स की मदद से आपको पता चल सकता है कि कौन से उपकरण इन्वर्टर से चल रहे हैं। इससे आप अनावश्यक खपत से बच सकते हैं।