home page

ट्रेन इंजिन को चलाने के लिए कितने लीटर इंजिन ऑयल की पड़ती है जरुरत, बहुत कम लोगों को पता होती है ये बात

जब हम सफर की बात करते हैं तो दो पहिया और रेलवे दोनों ही यातायात के प्रमुख साधन हैं। हालांकि इन दोनों के ऑपरेशन में बहुत बड़ा अंतर होता है,
 | 
engine-oil-required-for-train-locomotive

जब हम सफर की बात करते हैं तो दो पहिया और रेलवे दोनों ही यातायात के प्रमुख साधन हैं। हालांकि इन दोनों के ऑपरेशन में बहुत बड़ा अंतर होता है, खासकर जब बात ईंधन की खपत की आती है। आइए गहराई में जानें कि कैसे एक ट्रेन (Train) के इंजन में बाइक (Bike) की तुलना में कई गुना ज्यादा तेल (Oil) का इस्तेमाल होता है।

इंजन की शक्ति और ईंधन की खपत

इंडियन रेलवे (Indian Railways) द्वारा उपयोग किए जाने वाले इंजनों की विविधता काफी व्यापक है। इन इंजनों में WDM 3D, WDG3A, WDs6, WDP 4, 4b, 4d, WDG 4 शामिल हैं। प्रत्येक इंजन की पावर (Power) और क्षमता अलग-अलग होती है, जो उनके ईंधन की खपत को प्रभावित करती है। जितनी अधिक पावर, उतनी ही अधिक ईंधन की आवश्यकता होती है।

ईंधन की मात्रा

ट्रेन के इंजन में ईंधन की खपत काफी अधिक होती है। उदाहरण के लिए WDM 3D और WDG3A इंजन में प्रति बार करीब 1080 लीटर, WDs6 में 530 लीटर और WDP 4, 4b, 4d, WDG 4 में 1457 लीटर तक ईंधन (Fuel) का इस्तेमाल होता है। दूसरी ओर एक सामान्य 150 सीसी की बाइक के लिए केवल लगभग 1 लीटर तेल की आवश्यकता होती है। इससे स्पष्ट होता है कि ट्रेन और बाइक के बीच ईंधन की खपत में कितना बड़ा अंतर है।

ट्रेनों में ईंधन की जांच और महत्व

रेलवे ऑपरेशन में ईंधन की जांच (Fuel Inspection) और इंजन की स्थिति की निगरानी बहुत महत्वपूर्ण होती है। लोकोमोटिव (Locomotive) इंजनियर्स यात्रा से पहले ईंधन के लेवल और इंजन की लीकेज (Leakage) आदि की जांच करते हैं। यह सुनिश्चित करना कि इंजन सही स्थिति में है और उचित मात्रा में ईंधन उपलब्ध है, सुरक्षित और कुशल यात्रा के लिए अत्यंत आवश्यक है।