home page

कई पटरियों के बीच ट्रेन ड्राइवर कैसे करते है सही ट्रैक की पहचान, जाने किस प्लेटफॉर्म तक कौनसी पटरी जाएगी कैसा लगेगा पता

भारतीय रेलवे की ट्रेनों में सफर करते समय आपने शायद देखा होगा कि कई स्टेशनों पर एक से अधिक पटरियां होती हैं
 | 
How do train drivers find the right track between multiple tracks?

भारतीय रेलवे की ट्रेनों में सफर करते समय आपने शायद देखा होगा कि कई स्टेशनों पर एक से अधिक पटरियां होती हैं। जब इतनी पटरियां होती हैं तो ड्राइवर कैसे तय करता है कि किस पटरी पर ट्रेन लेकर आगे बढ़ना है? यह एक ऐसा सवाल है जो आप में से कई लोगो के दिमाग में उठता होगा। इसलिए आज हम आपको इसका उत्तर देने वाले हैं।

ऐसे पता लगता है ड्राइवर

स्टेशन से पहले लगा होम सिग्नल ड्राइवर को किस पटरी पर जाना है इस बात की जानकारी देता है। इसे देख कर ही ड्राइवर गाड़ी को किस ट्रैक पर ले जाना चाहिए ये तय करता है। सरल शब्दों में, सिग्नल ही ड्राइवर को बताता है कि उसे आगे किस पटरी पर जाना है।

300 मीटर पहले लगा होता है सिग्नल

आपको बता दे कि ट्रेन किसी स्टेशन पर रूकती है तो उससे 300 मीटर पहले ही सिग्नल लगा होता है। लेकिन यहां एक सफेद लाइट भी लगी होती है। सफेद लाइट से गाड़ी किस सुरक्षित पटरी पर ले जानी है इसका पता लगाया जाता है।