home page

ग्रेटर नोएडा में घर खरीदने वालों के लिए आई गुड न्यूज, इन 6500 फ्लैटों की रजिस्ट्री का रुका काम पकड़ेगा रफ्तार

ग्रेटर नोएडा के छोटे खरीदारों के लिए एक अच्छी खबर है। नीति आयोग के पूर्व सीईओ अमिताभ कांत ने कमेटी की सिफारिशों को लागू किया है
 | 
home buyers in greater noida

ग्रेटर नोएडा के छोटे खरीदारों के लिए एक अच्छी खबर है। नीति आयोग के पूर्व सीईओ अमिताभ कांत ने कमेटी की सिफारिशों को लागू किया है। 30 परियोजनाओं के बिल्डर बकाया देने को तैयार है।

मिलेगी 6500 फ्लैट खरीदारों को राहत

बिल्डर्स बकाये में 25 प्रतिशत राशि जमा करेंगे। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण इससे लगभग 300 करोड़ रुपये प्राप्त करेगा। इसके अलावा, 6500 फ्लैट खरीदारों को राहत मिलेगी। उनके फ्लैट की रजिस्ट्री का काम शुरू हो जायेगा।

चल रही मुद्दे को हल करने की करवाई

बिल्डर-बायर्स मुद्दे को हल करने के लिए नीति आयोग के पूर्व सीईओ अमिताभकांत कमेटी की सिफारिशों को लागू करने की करवाई चल रही है। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण क्षेत्र में 96 परियोजनाओं में लगभग 72 हजार फ्लैट खरीदार हैं।

5500 करोड़ रुपये बकाया

इन पर लगभग 5500 करोड़ रुपये बकाया हैं। किसी को फ्लैट नहीं मिला, इसलिए किसी की रजिस्ट्री नहीं हुई है। प्राधिकरण बकाये की गणना कर रही है। हलाकि की अभी भी गणना का काम जारी है।

प्राधिकरण को 300 करोड़ रुपये मिलेंगे

30 परियोजनाओं के बिल्डर्स को बकाये का पत्र दिया गया और वे बकाया धन जमा करने को तैयार हो गए। इन परियोजनाओं पर लगभग 1400 करोड़ रुपये का भुगतान बकाया है। शुरू में इससे प्राधिकरण को 300 करोड़ रुपये मिलेंगे।

बकाया की गणना और मिलान की प्रक्रिया जारी है: ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने लगभग 32 और परियोजनाओं के बकाये की गणना पूरी की है।

मिलेगी खरीदारों को राहत

बिल्डर की गणना और प्राधिकरण की गणना को मिलान हो चूका है। साथ ही इन बिल्डर्स को पत्र भेजा जाएगा। प्राधिकरण की उम्मीद है कि सभी बिल्डर पैसे जमा करने को तैयार हो जाएंगे। खरीदारों को इससे राहत मिलेगी।

इन परियोजनाओं के बिल्डर पैसे जमा करने के लिए राजी हो गए हैं: विहान डेवलपर्स, हेबे इंफ्रास्ट्रक्चर प्राइवेट लिमिटेड, एआईजी इंफ्राटेक, रुद्र बिल्डवेल इंफ्रा, इंटेलेक्ट प्रोजेक्ट

अंतरिक्ष इंजीनियर, एलिगेंट इंफ्रा, हिमालय रियल एस्टेट, डीएआर हाउसिंग, डीएसटी होम्स, ग्रैंड रियलटेक प्राइवेट लिमिटेड, ओमकार नेस्ट‘स, एसडीएस इंफ्राटेक प्राइवेट लिमिटेड

विभिन्न कंपनियों में शामिल हैं पंचशील बिल्डटेक, ट्राइडेंट इंफ्रा होम्स, रुद्रा बिल्डवेल होम्स, निराला वर्ल्ड, जेएसएस बिल्डकॉन, नोबल बिल्डटेक, बीएस बिल्डटेक, जिंदल प्रमोटर्स, एसएजी रीयलटेक, कॉसमॉस इंफ्रा, सुपर सिटी डेवलपर्स, जेएमडीआर इंफ्रा इंफ्रा, सुपर सिटी डेवलपर्स जैसी कम्पनिया इस सूचि में शामिल हैं.

34 बिल्डरों ने अब तक चालान नहीं जमा किए हैं

प्राधिकरण के कर्मचारियों ने बताया कि 34 परियोजनाओं के बिल्डर्स ने अपने जमा किए गए पैसे के चालान नहीं दिए है। प्राधिकरण इनके बकाये की गणना कर रहा है।

दोनों का मिलान किया जाएगा अगर बिल्डर्स चालान जमा करते हैं। ऐसे बिल्डर्स से बातचीत हो रही है। क्रेडाई के द्वारा भी वार्ता की जा रही है। हम उम्मीद करते हैं कि बिल्डर्स शीघ्र ही चालान जमा करेंगे।