home page

फरीदाबाद के किसान ने स्मार्ट वर्क से चमकाई अपने किस्मत, इस खेती से कर डाली लाखों की कमाई

ऐसा कहा जाता है कि वर्तमान समय में खेती में ज्यादा मुनाफा नहीं रहा, क्योंकि इसमें मेहनत ज्यादा लगती है और फायदा कम हो पाता है.
 | 
banana and papaya farming

ऐसा कहा जाता है कि वर्तमान समय में खेती में ज्यादा मुनाफा नहीं रहा, क्योंकि इसमें मेहनत ज्यादा लगती है और फायदा कम हो पाता है. लेकिन कुछ किसान अपनी मेहनत और दिमाग के चलते अच्छा खासा मुनाफा भी कमा रहे हैं. किसान नई नई तकनीकों का

इस्तेमाल करके काफी ज्यादा फायदा भी कमा पा रहे हैं. ऐसा ही एक उदाहरण है हरियाणा के फरीदाबाद जिले के किसान मुकेश यादव का. उन्होंने 2 एकड़ में केले, पपीते, अमरूद कीनू, नींबू की खेती की खेती है जिससे वह सालाना लाखों रुपये की कमाई कर रहे है.

इंटरनट और शिक्षा का किया उपयोग 

मुकेश ने अपनी शिक्षा का उपयोग करते हुए इंटरनेट की सहायता से सरकार की योजनाओं को समझते हुए खेती बाड़ी के तरीकों को छोड़कर नए तरीकों को अपनाया और बागवानी और ऑर्गेनिक खेती को अपनाकर अच्छा खासा मुनाफा कमाया है.

उन्होंने फल और सब्जियों की आधुनिक खेती को अपनाया और मेहनत के बल पर अमरूद, नारंगी, अनार, मूली, गाजर, टमाटर, केला, पपीता, सरसों,पालक, धनिया, मिर्च, शलजम, चुकंदर, प्याज,आलू, मटर, टमाटर, पत्ता गोभी, फूल गोभी, मौसमी जैसी फसलों से भरपूर पैदावार प्राप्त की. 

युवा हो रहे हैं खेती से दूर  

मुकेश बताते है की आज का युवा खेती से दूर हो रहा है. वह किसानी को छोड़कर सरकारी और निजी नौकरियों को प्राथमिकता दे रहे हैं. इसके लिए किसानों को नई पीढ़ी को खेती से जोड़ना होगा. इस काम में ऑर्गेनिक और बागवानी खेती महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं. बता दें कि मुकेश यादव को केंद्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन ने दिल्ली में आयोजित कृषि मेले में  इंडियन एग्रीकल्चर रिसर्च इंस्टीट्यूट ‘फैलो फार्मर’ पुरस्कार से सम्मानित भी किया था.

इस फसलों से भी ले रहे हैं बढ़िया पैदावार 

पुसा 1121 धान किस्म से मुकेश यादव सालाना 50 एकड़ तक धान की खेती करते हैं और प्रति एकड़ से 18 क्विंटल तक की पैदावार प्राप्त करते हैं. बाजार में इंडिया गेट बासमती के नाम से उनके धान को बेचा जाता है. पूसा के गेहूं के बीज H-2851, HD-2967, WH- 711, PBW-343, PBW-502 किस्मों से भी मुकेश अच्छी पैदावार प्राप्त कर रहे हैं.vv