home page

इस बड़ी वजह के चलते V शेप की पटरियों का इस्तेमाल करता है रेल्वे, असली कारण जानकर तो आप भी नही करेंगे भरोसा

भारतीय रेलवे (Indian Railways) जो विश्व का चौथा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क (Rail Network) है, ने अपने ढाई करोड़ दैनिक यात्रियों (Daily Passengers) की सुरक्षा और सुविधा के लिए कई आधुनिक पहल की हैं।
 | 
 reason behind v shape track

भारतीय रेलवे (Indian Railways) जो विश्व का चौथा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क (Rail Network) है, ने अपने ढाई करोड़ दैनिक यात्रियों (Daily Passengers) की सुरक्षा और सुविधा के लिए कई आधुनिक पहल की हैं।

वंदे भारत है आधुनिकता की नई रफ्तार

हाल के वर्षों में वंदे भारत जैसी सुपरफास्ट ट्रेनों (Superfast Trains) ने भारतीय रेलवे की गति और सेवा में क्रांतिकारी बदलाव किया है। इससे यात्रा का समय कम हुआ है और यात्री सुविधा में वृद्धि हुई है।

सुरक्षा की एक अनदेखी परत

यात्रा के दौरान आपने ट्रेन के पटरियों (Train Tracks) पर V के आकार की पटरियां देखी होंगी, जिन्हें गार्ड रेल (Guard Rails) कहा जाता है। ये गार्ड रेल मुख्य पटरियों को अतिरिक्त सहायता प्रदान करती हैं, खासकर उन स्थानों पर जहां पटरियां अधिक संवेदनशील होती हैं।

गार्ड रेल की आवश्यकता और स्थापना

गार्ड रेल मुख्यतः उन स्थानों पर लगाई जाती हैं जहां तेज मोड़ (Sharp Turns), लेवल क्रॉसिंग (Level Crossings), और पुल (Bridges) होते हैं। ये वह स्थान होते हैं जहां मुख्य पटरियों को अतिरिक्त सुरक्षा की जरूरत होती है। गार्ड रेल इन पटरियों को मजबूती प्रदान करती हैं और दुर्घटनाओं (Accidents) को रोकने में मदद करती हैं।

सुरक्षा और रखरखाव में गार्ड रेल की भूमिका

गार्ड रेल, रेलवे ट्रैक के रखरखाव (Maintenance) और सुरक्षा के महत्वपूर्ण घटक हैं। ये न केवल ट्रेन को पटरी से उतरने से बचाती हैं, बल्कि पटरियों के निरंतर उपयोग से होने वाले दबाव को भी संतुलित करती हैं।