home page

इस बड़ी गड़बड़ी के चलते RBI ने 5 रुपए के सिक्के को किया था बंद, असली वजह आपको भी हिलाकर रख देगी

5 रुपये के सिक्के का इस्तेमाल हम हमेशा छोटे मोटे लेन देन में हैं। वहीं पिछले कुछ दिनों से 5 रुपये का मोटा सिक्का बाजार से गायब हो गया है
 | 
Due to this big mistake, RBI has banned Rs 5

5 रुपये के सिक्के का इस्तेमाल हम हमेशा छोटे मोटे लेन देन में हैं। वहीं पिछले कुछ दिनों से 5 रुपये का मोटा सिक्का बाजार से गायब हो गया है। आपके दिमाग में भी ये सवाल आया होगा की आखिर ये सिक्का अचानक कहा गायब हो गया। हम आज की खबर में आपको इस सिक्के से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातें बताने वाले हैं, जो आपको हैरान कर देंगी।

5 रुपये का मोटा सिक्का क्यों हुआ गायब?

5 रुपये का पुराना सिक्का बहुत मोटा होता था। इसे बनाने में बहुत समय लग जाता था। साथ ही इसे बनाने में बहुत मेटल का भी प्रयोग किया जाता था। वहीं कुछ लोग इस धातु का गलत तरह से इस्तेमाल करने लगे थे। जिस धातु से पांच रुपये का सिक्का बनाया जाता है उसी धातु से ब्लेड भी बनता है।

सिक्कों की अवैध तस्करी होती थी

5 रुपये कि इन सिक्कों की अवैध तस्करी होने लगी। इन सिक्कों को गैरकानूनी ढंग से बांग्लादेश भेजा जाना शुरू हो गया। वहां, इन सिक्कों को पिघलाकर उनके मेटल से ब्लेड बनाया जाता था।

आपको हैरानी होगी कि एक सिक्के से छह ब्लेड बन सकते है और एक ब्लेड दो रुपये में बिक जाता था। भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) को इसकी जानकारी मिलने पर इसे बंद कर दिया गया।

भारतीय रिज़र्व बैंक ने पांच रुपये के सिक्कों को बदल दिया

यह सभी सिक्के अचानक बाजार से ग़ायब हो गए। सरकार को पता चला कि बांग्लादेश में कुछ लोग ऐसा कर रहे हैं। बाद में, भारतीय रिज़र्व बैंक ने पांच रुपये के सिक्के बनाने की प्रक्रिया और धातु भी बदल दी।

पहले से नया सिक्का बहुत अलग

5 रुपये के सिक्के अभी भी उपलब्ध हैं, लेकिन वे पहले से काफी ज्यादा पतले हैं। नए सिक्के का मटेरियल अलग है, इसलिए बांग्लादेशी चाहे तो भी इसकी तस्करी नहीं कर पाएंगे।

और इससे ब्लेड भी नहीं बनाया जा सकता है। 5 रुपये के पुराने सिक्के को पिघलाने पर उसकी वैल्यू बढ़ जाती थी, लेकिन नए सिक्के के साथ ऐसा नहीं हो सकता है।