home page

ट्रेन के सफर में सीट के पास लगे बिजली प्लग में मत लगाना ये चीजें, वरना रेलवे कर सकता है कानूनी कार्रवाई

भारतीय रेलवे से हर दिन करोड़ों लोग ट्रेवल करते हैं। ऐसे में, रेलवे भी अपने यात्रियों की सुविधाओं का पूरा ध्यान रखता है
 | 
Otherwise Railways can take legal action

भारतीय रेलवे से हर दिन करोड़ों लोग ट्रेवल करते हैं। ऐसे में, रेलवे भी अपने यात्रियों की सुविधाओं का पूरा ध्यान रखता है। आजकल यात्री मोबाइल और लैपटॉप भी लाने लगे हैं। यही कारण है कि ट्रेन में पैसेंजर्स के लिए हर सीट पर चार्जिंग पोर्ट है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि ट्रेन में हर समय आप अपने फोन को चार्ज नहीं कर सकते?

भारतीय रेलवेके नियम के अनुसार आप कुछ समय के लिए चार्जिंग नहीं कर सकते हैं। इसलिए अगर आप ट्रेन में सफर कर रहे हैं, तो अपना फोन और लैपटॉप को पूरी तरह से चार्ज करके निकले।

आप अपने फोन को रात में चार्ज क्यों नहीं कर सकते?

रात में 11 बजे से लेकर सुबह 5 बजे तक भारतीय रेलवे ने यात्री को ट्रेन में स्मार्टफोन या लैपटॉप चार्ज करने से मना कर देता है। रेलवे ट्रेनों में दुर्घटनाओं को कम करने के लिए ऐसा करता है। दरअसल, लोग अक्सर अपना फोन चार्जिंग पर छोड़ देते हैं या भूल जाते हैं. अगर कोई अपना फोन या लैपटॉप पर चार्ज पे लगा कर सोता है, तो इससे शॉर्ट सर्किट हो सकता है। ऐसे में, रेलवे पैसेंजर से रात में फोन चार्ज करने से मन करता है।

ये आदेश कब आया?

रेलवे ने कोई नया नियम नहीं लागू किया है। रेलवे इस मुद्दे को लेकर बार-बार आदेश देता रहता है। 2014 में रेलवे बोर्ड ने ये आदेश ट्रेनों में आग की दुर्घटनाओं को कम करने के लिए थे। 2021 में रेलवे ने भी हर जोन में ये आदेश जारी किए। लेकिन अधिकांश यात्री इस नियम से अनजान हैं।

यात्रियों की जान जा सकती है

वोल्ट कम या अधिक होने पर ट्रेन में लैपटॉप चार्ज नहीं करना चाहिए, क्योंकि इससे लैपटॉप खराब हो सकता है। वहीं ट्रेन में ज्यादा वॉल्टेज पर इलेक्ट्रॉनिक सामान चार्ज करने से शॉर्ट सर्किट और आग लगने की संभावना अधिक होती है। जिससे कई यात्रियों की जान जा सकती है। याद रखें कि पिछले साल, 2023 में, रेलवे ने रात में ट्रेनों में मोबाइल फोन और लैपटॉप चार्ज करने पर प्रतिबंध लगा दिया था।

क्या सजा मिल सकती है?

147 रेलवे एक्ट हैं, जिसमें प्रतिबंधित क्षेत्र में या अनाधिकृत रूप से प्रवेश करना अपराध मानते हैं। ट्रेन में बैन चीजों का इस्तेमाल करने पर अपराधी को एक हजार रुपये का जुर्माना और छह महीने की जेल या दोनों की सजा हो सकती है।