home page

सुबह सवेरे उठते ही फोन का भूलकर भी ना करे इस्तेमाल, वरना हो सकती है ये बड़ी दिक्क्त

आजकल के लाइफस्टाइल में स्मार्टफोन (Smartphone) एक अनिवार्य हिस्सा बन चुका है। हालांकि इसके अधिक प्रयोग को विशेषज्ञ अक्सर एक नशीली लत (Addictive Habit) के रूप में देखते हैं।
 | 
using-smartphone-just-after-waking

आजकल के लाइफस्टाइल में स्मार्टफोन (Smartphone) एक अनिवार्य हिस्सा बन चुका है। हालांकि इसके अधिक प्रयोग को विशेषज्ञ अक्सर एक नशीली लत (Addictive Habit) के रूप में देखते हैं। अब एक नई रिसर्च से पता चला है कि सुबह उठते ही सबसे पहले स्मार्टफोन का उपयोग करने के नुकसान बहुत हैं।

सुबह की शुरुआत और स्मार्टफोन

न्यूरोपैथिक विशेषज्ञ जेनी बोरिंग (Neuropathic Expert Jenny Boring) का कहना है कि सुबह उठते ही स्मार्टफोन का उपयोग हमारे नर्वस सिस्टम (Nervous System) को अत्यधिक सक्रिय कर देता है। इससे हमारे मेटाबॉलिज्म (Metabolism) पर प्रभाव पड़ता है, सिरदर्द (Headache) और अन्य समस्याओं का कारण बनता है।

नर्वस सिस्टम पर प्रभाव

सुबह जागते ही स्मार्टफोन का इस्तेमाल हमारे दिमाग में डोपामाइन (Dopamine) के स्तर को बढ़ा देता है, जिससे नर्वस सिस्टम और भी ज्यादा उत्तेजित हो जाता है। बोरिंग के अनुसार यह हमारे पूरे स्वास्थ्य के लिए खतरनाक सिद्ध हो सकता है।

इलेक्ट्रिक और मैग्नेटिक फील्ड का असर

सेल फोन से निकलने वाले इलेक्ट्रिक और मैग्नेटिक फील्ड्स (Electric and Magnetic Fields) हमारे मेटाबॉलिज्म को सीधे प्रभावित करते हैं। इसके कारण हमारे शरीर को अधिक मैग्नीशियम (Magnesium) की आवश्यकता होती है।

नीली रोशनी का प्रभाव

मोबाइल से निकलने वाली नीली रोशनी (Blue Light) हमारे शरीर की बायोलॉजिकल क्लॉक (Biological Clock) को प्रभावित करती है, जिससे हमारा शरीर यह समझने लगता है कि अभी दिन का मध्य है।

मनोवैज्ञानिक प्रभाव

मनोविशेषज्ञ जे राय (Psychologist J Roy) के अनुसार सुबह उठते ही स्मार्टफोन के प्रयोग से बचना चाहिए। जब हम सुबह उठते हैं, तो हमारा दिमाग थीटा और अल्फा तरंगें (Theta and Alpha Waves) निकालने लगता है, जो हमें आराम और सजगता की स्थिति में लाता है। स्मार्टफोन का प्रयोग हमें इस प्राकृतिक प्रक्रिया से वंचित कर देता है।